Dhanyavad Patra Hindi Mai | जन्म दिवस पर उपहार का धन्यवाद

अपने जन्मदिन पर चाचाजी द्वारा भेजे गए उपहार के लिए धन्यवाद पत्र लिखिए – Letter to your Uncle thanking him for a birthday gift in Hindi. जन्म दिवस पर उपहार का धन्यवाद। Dhanyavad Patra Hindi Mai.

Dhanyavad Patra Hindi Mai

परीक्षा भवन,
… शहर।
17 अगस्त 19….

पूज्य चाचा जी,

                                           सादर प्रणाम्।

               आपका प्रेम से भरपूर उपहार, जो आपने मेरे जन्मदिवस पर भेजा था मिल गया है। सबसे पहले मैं आपका धन्यवाद करता हूं और फिर गुस्सा प्रकट करता हूं। इस बार मुझे पूर्ण आशा थी कि आप मेरे जन्म-दिवस पर अवश्य आएंगे। हम सब आपका इन्तजार करते रहे। अन्ततः पार्टी शुरू करनी पड़ी। पार्टी चल ही रही थी कि डाकिए ने आवाज दी। मैं भागा-भागा गया तो उसने मेरे हाथ में पार्सल थमा दिया। उसको खोल कर मेरी बांछे ही खिल गई। सचमुच चाचा जी आप कितने अच्छे है। आपने मेरी मन की बात बूझ ली। मुझे घड़ी की बहुत आवश्यकता थी। इसका अभाव मुझे खटक रहा था। अब यह घड़ी मेरी पढ़ाई को नियमित करने में सहायक सिद्ध होगी। घड़ी मुझे बताती है, “मैं हमेशा आगे बढ़ती रहती हूं रूकती नहीं।” इससे मुझे हमेशा आगे बढ़ने की प्रेरणा मिलती रहेगी।


               चाचा जी कई बार विद्यालय जाने में भी विलम्ब हो जाता था। निःसन्देह अब मैं अपने आपको नियमित बना लूंगा। इसको जिसने भी देखा, उसी ने इसकी प्रशंसा की। रेडियम का डायल होने के कारण रात के अन्धेरे में भी समय ज्ञात हो सकता है। सचमुच ही यह बहुत बढ़िया है। आपको यह उपहार आपका मेरे प्रति अगाध स्नेह प्रकट करता है। अन्त में एक फिर से सच्चे दिल से आपका धन्यवाद करता हूं। चाची जी को चरण-वन्दना, रिंकू को प्यार।

आपका प्रिय भतीजा।
क, ख, ग

Thank you for reading Dhanyavad Patra Hindi Mai. Send your feedback through the comment box.

अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे।

Share this :