ईद के त्यौहार पर निबंध – Eid Essay in Hindi

Eid essay in Hindi – ईद के त्यौहार पर निबंध| Hello guys today we are going to discuss an Eid essay in Hindi. What is EID? We have written an essay on Eid in Hindi. Now you can take an example to write Eid essay in Hindi in a better way. Eid essay in Hindi is asked in most exams nowadays starting from 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 and 12.

ईद के त्यौहार पर निबंध – Eid Essay in Hindi

Eid Essay in Hindi
Eid Essay in Hindi

Eid Essay in Hindi 300 Words

कहते हैं कि सबसे ज्यादा त्योहार अगर किसी देश में मनाए जाते हैं, तो वह भारत है। हम न केवल बहुत-से त्योहार मनाते हैं, बल्कि बेसब्री से उनका इंतजार भी करते हैं। ऐसा ही एक त्योहार है, ईद। वैसे बच्चों को तो इसका कुछ ज्यादा ही इंतजार रहता है। इस दिन उन्हें ईदी जो मिलती है। मेले में दोस्तों के साथ घूमना, अपनी पसंद की चीजें खरीदना और मीठी-मीठी खूब सारी सेवइयाँ खाना भला किसे अच्छा नहीं लगेगा! इस दिन बच्चे बड़ों को सलाम करते हैं, ईद मुबारक कहते हैं और बदले में बड़े उन्हें कुछ पैसे देते हैं, जिसे ईदी कहते हैं।

इसलिए बच्चे तो इस मुबारक मौके का रमजान का महीना शुरू होने से पहले ही इंतजार करने लगते हैं। साल में दो बार ईद मनाई जाती है। इनमें से पहली ईद-उल-फितर है। रमजान के महीने में 30 दिन तक रोजे रखे जाते हैं। ईद के साथ यह महीना खत्म होता है और 30 दिनों के बाद पहली बार दिन में खाना खाया जाता है। इस दिन अल्लाह का शुक्रिया अदा किया जाता है कि उन्होंने महीने-भर रोजा या उपवास रखने की शक्ति दी। सब लोग नए कपड़े पहनते हैं और एक-दूसरे को ईद मुबारक कहकर तोहफे देते हैं। इस दिन सुबह मस्जिद जाकर प्रार्थना की जाती है, लेकिन उससे पहले गरीबों को कुछ दान देना ज़रूरी होता है, जिसे जकात कहा जाता है।

ईद-उल-फितर की तरह ही ईद-उल-जुहा भी खूब खुशी और खास प्रार्थनाओं का त्योहार है। इसे कुर्बानी के त्योहार के रूप में मनाया जाता है। इसे बकरीद भी कहा जाता है, क्योंकि इस दिन बकरे की कुर्बानी दी जाती है। इस दिन भी सब एक-दूसरे को ईद की मुबारकबाद और तोहफे देते हैं।

Eid Essay in Hindi 500 Words

ईद का त्योहार मुसलमानों का सबसे बड़ा त्योहार है । यह त्यौहार हमारे देश में धूम-धाम से मनाया जाता है । इसे सभी धर्मों के लोग मिल-जुल कर मनाते हैं । हर वर्ष में दो ईदें मनाई जाती हैं । इन में एक को ‘ईद-उल-फितर’ और दूसरी को ‘ईद-उल-जुहा’ कहते हैं । र्हद-उल फितर इस्लामी महींनों में पहली तारीख को मनाई जाती है । इस ईद को ‘मीठी ईद’ भी कहते है ।

इस्लाम धर्म में रमज़ान महीने का विशेष महत्व है । रमजान का चाँद देखकर रोज़े शुरू किये जाते हैं । दिन चढ़ने से पहले भाव फ़ज्र (Fajar) के अज़ान (नमाज़) से पहले तक खाना खाया जाता है, जिसको सहरी कहते हैं । फिर दिन भर अन्न-जल ग्रहण नहीं किया जाता । शाम ढलते समय मग्रिब ( Magrib ) की अज़ान (नमाज़) सुनते ही रोज़े खोले जाते हैं जिसको इफ़्तार ( Iftar ) कहते हैं । ये रोज़े करीब 29-30 दिन तक चलते हैं । इसी महीने में इस्लाम धर्म के अनुसार
पैगम्बर मुहम्मद साहिब को कुरान शरीफ़ प्राप्त हुआ था । आखिरी रोज़े की शाम को शाही इमाम के द्वारा ईद के चाँद को देखकर ईद का ऐलान किया जाता है । उस दिन को अरफ़ा कहते हैं ।

ईद की सुबह लोग नहा-धोकर नये-नये कपड़े पहनकर ईदगाह में ईद नमाज़ अदा करने जाते है । ईद को नमाज़ बड़े उत्साह के साथ पढ़ी जाती है । लोग खुदा का शुक्रिया अदा करते हैं और हाथ उठाकर दुआएं माँगते है । इसके बाद लोग एक-दूसरे के गले मिलकर ‘ईद मुबारक’ कहते हैं । ईदगाह के बहार मेला लगा होता है । बाजारों में बडी रौनक होती है । दुकाने खूब सजी होती हैं । बच्चे-बड़े सब मेले से खरीदारी करते, झूले झूलते और लुतफ उठाते है । शाम को सब मस्ती करते हुए घरों को लौट जाते हैं।

बच्चे को ईद के दिन घर के बड़े बुजुर्ग ईदी देते हैं इसलिए बच्चों में विशेष उत्साह होता है । इस दिन हर घर में स्वादिष्ट पकवान और सेवइयाँ बनती हैं । इन्हें सब स्वयं खाते और आपस में भी बाँटते हैं ।

रोजे के दिनों में बुरी आदतों जैसे सिगरेट पीना, तम्बाकू खाना आदि का त्याग किया जता है । निन्दा, चुगली और झूठ बोलने से परहेज किया जाता है ।

ईद उल फ़ितर के बद दूसरी ईद, ईद उल जुहा अर्थात बकरीद दो महीने दस दिन बाद आती है । यह ईद हज़रत इब्राहिम अल्लाह इस्लाम ( A.S ) और इनके बेटे की याद में मनाई जाती है । इस ईद पर भी ईद नमाज़ अदा की जाती है । इसी दिन हज पूरा हुआ माना जाता है । इसलिए इस दिन कुर्बानी दी जाती है । कुर्बानी का हिस्सा आपस में बाँटकर खाया जाता है । दोनों ईंदों मीठी ईद और बकरीद के दिनों में इस्लाम घर्मं के अंगों कलमा, नमाज़, ज़कात, रोजा तथा हज करना इत्यादि का विशेष महत्व माना जाता है । ऐसी भी मान्यता है कि इन दिनों में की गई नेकियों का दस गुणा फल प्राप्त होता है । ईद-ए-मिलाद का भी इस्लाम धर्म में खास स्थान है ।

Eid Essay in Hindi 600 Words

ईद रूपरेखा : ईद-उल-फ़ितर और ईदुज्जुहा का संक्षिप्त परिचय, रमज़ान और ईद, ईद और भाईचारा, मस्जिद में नमाज़ पढ़ने का दृश्य, उपसंहार।

ईद-उल-फ़ितर मुसलमानों का महत्त्वपूर्ण त्योहार है। सभी लोग महीनों से इसकी प्रतीक्षा करते हैं। गरीब-अमीर सभी अपनी सामर्थ्य के अनुसार इस त्योहार पर नए कपड़े बनवाते हैं और नए कपड़े पहनकर ही ईद की नमाज़ पढ़ने के लिए ईदगाह या मस्जिद में जाते हैं। घर-घर में स्वादिष्ट मीठी सिवइयाँ बनती हैं। इन्हें वे स्वयं भी खाते हैं और इष्ट मित्रों और संबंधियों को भी खिलाते हैं।

ईद-उल-फ़ितर का त्योहार रमज़ान के महीने के बाद आता है। उनतीसवें रमज़ान से ही चाँद कब होगा’, ‘चाँद कब होगा’ की आवाज़े चारों ओर से सुनाई देने लगती हैं। जिस संध्या को शुक्ल पक्ष का पहला चाँद दिखाई पड़ता है, उसके अगले दिन ‘ईद-उल-फ़ितर’ का त्योहार मनाया जाता है। कभी-कभी चंद्रोदय के समय पश्चिमी आकाश में बादल छा जाने के कारण चाँद दिखाई नहीं देता। परंतु तभी प्रायः ढोल पर डंके की चोट पड़ने की आवाज़ सुनाई देती है और बताया जाता है कि मस्जिद के इमाम से खबर आ गई है कि चाँद दिखाई दे गया। अतः रमज़ान का महीना समाप्त हुआ, कल ईद है। सभी लोगों के चेहरे पर एक नई चमक आ जाती है।

कहते हैं कि रमज़ान के इस पवित्र महीने में पैगंबर मुहम्मद साहब को कुरान का इलहाम हुआ था। रोज़े के दिनों में सूर्योदय से सूर्यास्त तक कुछ भी खाने-पीने की इजाज़त नहीं है। सूर्यास्त के बाद ही कुछ खा-पीकर रोज़ा खोला जाता है। | ईद-उल-फ़ितर के दो महीने दस दिन के बाद ईदुज्जुह. का त्योहार मनाया जाता है। यह कुरबानी का पर्व है। माना जाता है कि इस दिन इब्राहिम ने अपने बेटे को अल्लाह के नाम पर कुरबान करने का फैसला किया था। जैसे ही उन्होंने अपने बेटे की गरदन पर छुरी रखी, अल्लाह ने बेटे की गरदन के स्थान पर दुंबा (एक प्रकार का बकरा) रख दिया। कुरबानी दुबे की हुई। अब बकरे की कुरबानी की प्रथा है तभी से ईदुज्जुहा का पर्व मनाया जाने लगा।

ईद भाईचारे का त्योहार है। ईद की नमाज़ के बाद ईद-मिलन कार्यक्रम ईदगाह से ही आरंभ हो जाता है। लोग आपस में गले मिलते हैं और एक दूसरे को ईद की मुबारकबाद देते हैं। यह क्रम दिन भर चलता रहता है। बिना किसी भेद-भाव के लोग प्रेम से एक दूसरे से गले मिलते हैं और अपने घर आने वालों को सिवइयाँ खिलाते हैं। ईद और होली जैसे पर्व हमारे देश में रहने वाले विभिन्न धर्मावलंबियों के लिए एकता और मिलन के अवसर प्रदान करते हैं। ईद के दिन सभी एक दूसरे से प्रेमपूर्वक गले मिलते हैं। कहीं-कहीं सार्वजनिक रूप से भी ईद-मिलन का आयोजन किया जाता है।

ईदगाहों पर सामूहिक नमाज़ पढ़ी जाती है। यह दृश्य बड़ा मनोहारी होता है। दूर-दूर तक सफ़द टोपी पहने हुए पंक्तिबद्ध सिर खुदा की इबादत में झुक जाते हैं। नमाज़ संपन्न होने पर सब एक दूसरे से गले मिलते हैं और शुभकामनाएँ देते-लेते हैं।

ईद के दिन ईदगाह के आस-पास मेले भी लगते हैं। बच्चों के लिए वे विशेष रूप से आकर्षण के केंद्र होते हैं। इन मेलों में दुकानदार अपनी-अपनी दुकानें लगाते हैं जिनमें तरह-तरह की आकर्षक चीज़ और घर-गृहस्थी का सामान मिलता है। बच्चों के साथ-साथ बड़े भी मेलों का आनंद उठाते हैं।

सभी भारतीय पर्व चाहे ईद हो या होली, बैसाखी हो या क्रिसमस, पूरे समाज के लिए हर्षोल्लास के अवसर होते हैं, अपने जीवन में इनसे एक नई चेतना, एक नई स्फूर्ति आ जाती है। इन अवसरों पर लोग अपने जीवन की कठिनाइयों और भागदौड़ से मुक्त होकर हर्ष और उल्लास में डूब जाते हैं। ईद भी खुशी का ऐसा ही त्योहार है। इसमें महीने भर भूख-प्यास को सह लेने की खुशी, कुरान के धरती पर प्रकट होने की खुशी और खुशी में साझेदारी की खुशी स्वाभाविक रूप से होती है।

Note: Thank you guys for reading Eid essay in Hindi. Do send your feedback on an Eid essay in Hindi?

Thank you for reading. Don’t forget to give us your feedback.

अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे।

Share this :

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *