योग के महत्व पर निबंध – Essay on Importance of Yoga in Hindi

Read an essay on Importance of Yoga in Hindi. योग के महत्व पर निबंध। From the ancient time, yoga was part of life. If we do yoga for 15 to 20 mins a day you will get know the importance of yoga. Now learn essay on importance of yoga in Hindi. Importance of yoga in Hindi for class 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 and 12.

hindiinhindi Essay on Importance of Yoga in Hindi

योग और आयुर्वेद पर निबंध –Essay on Importance of Yoga in Hindi

स्वास्थ्य और चिकित्सा के क्षेत्र में भारत प्राचीन काल से ही आत्मनिर्भर रहा है। योग और आयुर्वेद जैसी पद्धतियाँ यहाँ के लोगों के अच्छे स्वास्थ्य का आधार रही हैं। न केवल प्राचीन काल में, बल्कि आज भी ये पद्धतियाँ बेहद लोकप्रिय हैं। अब तो विदेशों में भी लोग अंग्रेजी दवाइयों की बजाय आयुर्वेदिक दवाइयों और मशीनी कसरत की बजाय योग को अपनाने लगे हैं।

आसान भाषा में कहें तो योग व्यायाम का ही एक तरीका है, जो आज घर-घर में लोकप्रिय हो चुका है। एक समय था, जब लोग शुद्ध हवा में साँस लेते थे, पौष्टिक भोजन करते थे और खूब शारीरिक श्रम करते थे। उस समय बीमारियाँ बहुत कम होती थीं, लेकिन समय के साथ-साथ हमारी जीवन-शैली बदली और खान-पान भी। ऐसे में तन-मन को स्वस्थ रखने के लिए व्यायाम बहुत आवश्यक है। आज पूरी दुनिया में योग से जुड़े प्राणायाम और कपालभाति जैसे शब्द लोकप्रिय हो गए हैं। यह हमारा सौभाग्य है। कि योग की परंपरा का जन्म भारत में हुआ था। यह एक वैज्ञानिक पद्धति है, जिससे हजारों वर्ष पूर्व महान् योगियों ने हमारा परिचय करवाया। पतंजलि का योगसूत्र इस संबंध में सबसे प्रामाणिक ग्रंथ है। पतंजलि ने मानव जीवन के सर्वांगीण विकास के लिए योग के आठ चरणों की व्याख्या की है, जिन्हें अष्टांग योग के नाम से जाना जाता है। ये आठ चरण हैं – यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धरना, ध्यान और समाधि। योग का दुनिया को सबसे बड़ा योगदान यही है कि उसने हमें सेहत के प्रति जागरूक रहने की नए सिरे से प्रेरणा दी है। योग के लाभों को आधुनिक चिकित्सा विज्ञान भी स्वीकार करता है।

भारत में ही मानव जाति की सबसे प्राचीन औषध प्रणाली आयुर्वेद का जन्म हुआ। इसके जनक माने जाने वाले चरक ने करीब 2500 वर्ष पहले आयुर्वेद के सिद्धांतों को दृढ़तापूर्वक स्थापित किया। आयुर्वेद दो शब्दों आयुः और वेद से मिलकर बना है। आयुः का अर्थ जीवन है, तो वेद का अर्थ ज्ञान या विज्ञान। इस प्रकार आयुर्वेद दरअसल जीवन का विज्ञान है। यह प्राचीन भारतीय औषध-विज्ञान है, जिसका मूल वेदों में खोजा जा सकता है। यह वात, पित्त और कफ जैसे त्रिदोषों के आधार पर विभिन्न औषधियों के प्रयोग से रोगों का उपचार करता है। आयुर्वेद अच्छे स्वास्थ्य के लिए शारीरिक, मनोवैज्ञानिक और आध्यात्मिक प्रणालियों का संयोजन करता है। आयुर्वेद प्राकृतिक औषधियों पर आधारित है, इसलिए मानव शरीर भी इसके प्रति जल्दी प्रतिक्रिया देता है।

Thank you for reading essay on importance of Yoga in Hindi. Don’t forget to send us your review on Hindi essay?

अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे।

Share this :

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *