आम पर निबंध | Essay on Mango in Hindi

आम पर निबंध ( Essay on Mango in Hindi ) – कक्षा 1, 2, 3, 4, 5 के बच्चों और विद्यार्थियों के लिए ( Mango Essay in Hindi – आम पर निबंध ) हिंदी में।

Essay on Mango in Hindi – आम पर निबंध

essay on mango in hindi
आम पर निबंध

Essay on Mango in Hindi 150 Words

फल कई तरह के आते है लेकिन मेरा प्रिय फल आम है। भारत का राष्ट्रीय फल आम है और पूरी दुनिआ का शानदार फल है। आम एक मीठा फल है। यह कई तरह के रंगों में आता है। आम कई तरह के आकारों में आता है। पूरी दुनिआ में आम की करीब 1500 से ज्यादा प्रजातियां पाई जाती है। आम के फल में एक गुठली होती है अगर उसकी गुठली बोते है तो वहॉ पर पेड उग जाता है। आम का मौसम गर्मी होता है जब यह बाजार में आता है। यह एक मौसमी फल है। यह एक मांसल फल है। लोग आम से आम का शेक भी बनाते है। गर्मीयों में यह एक स्वास्थ्य पेय है।

आचार और जेम भी आम से बनता है। आम का नाम सुनते ही सभी के मुँह में पानी आ जाता है, खासकर बच्चों को आम खाना बहुत पसंद है। मै फलों के राजा आम को बहुत पसंद करता हूँ।

Essay on Mango in Hindi 250 Words

बच्चो! मुझे सर्दियों का मौसम बहुत पसंद है। गुनगुनी धूप में बैठकर मूंगफलियाँ और गजक खाने का अपना अलग ही मज़ा है, लेकिन एक चीज़ की सर्दियों में मुझे बहुत कमी खलती है, और वह है मेरा पसंदीदा फल, आम। हरे-पीले, गूदेदार–रसीले आम के नाम से ही मुँह में पानी आ जाता है। चाहे मीठी-मीठी खुशबू वाला पका हुआ आम हो या कच्ची अमिया का अचार और चटनी, सबका अपना अलग स्वाद है।

आम पूरे भारत में पाया जाता है। यह फल तेज़ गर्मी में ही पकता है। देश में आम के ऐसे भी पेड़ हैं, जो 300 साल से भी पुराने हैं, लेकिन आज भी फल दे रहे हैं। न केवल भारत, बल्कि पूरी दुनिया में आम बहुत चाव से खाया जाता है। दुनिया भर में आम की कुल खपत का 44 प्रतिशत भारत उपलब्ध कराता है। आखिर आम हमारा राष्ट्रीय फल जो है। हमारे यहाँ आम की हापूज, आम्रपाली, चौसा, दशहरी, केसर, लँगड़ा जैसी 100 से भी ज्यादा किस्में पाई जाती हैं। वैसे इसका वानस्पतिक नाम ‘मैंगीफेरा इंडिका’ है।

वेदों में आम को ‘देवताओं का फल’ कहा गया है। आम की पत्तियों व लकड़ियों को भी बेहद मांगलिक माना जाता है और पूजा-हवन आदि में इनका उपयोग भी किया जाता है। महाकवि कालिदास ने भी अपनी रचनाओं में आम की तारीफ के पुल बाँधे हैं।

यूनान के बादशाह सिकंदर और चीनी यात्री हवेन त्सेंग ने भी भारत में रहने के दौरान इसका खूब जायका लिया। मुगल बादशाह अकबर को तो इसका स्वाद इतना पसंद आया कि उन्होंने बिहार के दरभंगा में एक लाख आम के पेड़ लगवाए, जो अब लखी-बाग के नाम से मशहूर है। यह फल अपने औषधीय गुणों के लिए भी जाना जाता है।

हम आशा करते हैं कि आप इस पत्र ( Essay on Mango in Hindi – आम पर निबंध ) को पसंद करेंगे।

Share this :

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *