टेलीविजन पर निबंध – Essay on Television in Hindi

We have written an essay on television is written in 1000 words to help every child to write an essay or paragraph on television in Hindi. Write an essay on television advantages and disadvantages in Hindi or essay on effect of television on students in Hindi.

Essay on Television in Hindi
टेलीविजन पर निबंध – Essay on Television in Hindi

टेलीविजन पर निबंध – Essay on Television in Hindi

विज्ञान के हर क्षेत्र में प्रगति कर रहे वैज्ञानिकों ने अनेक अदभुत् सफलताएं प्राप्त की हैं। टैलीविजन भी ऐसी ही एक उपलब्धि है। टैली का अर्थ है दूर और विज़न का अर्थ है दृष्टि अर्थात् ऐसा उपकरण जिसके द्वारा दूर घटने वाली घटनाएं देखी जा सकें। हिन्दी में इसका ‘दूरदर्शन‘ नाम अत्यन्त उपयुक्त है।

स्काटलैण्ड के एक वैज्ञानिक ने 1926 में एटलांटिक सागर के पार चित्र भेजे थे, वही टैलीविज़न का सूत्रपात था। रेडियो और सिनेमा दोनों का मिला-जुला रूप टेलीविज़न है। टैलीविजन ने आज मनोरंजन के साधनों में सर्वप्रथम स्थान प्राप्त कर लिया है। इस पर अनेक प्रकार के मनोरंजन कार्यक्रम आते रहते हैं। पहले सिनेमा देखने के लिये लोगों को घर से बाहर जाना पड़ता था। टिकट लेने पर पैसे तो खर्च करने ही पड़ते थे साथ ही भीड़ होने पर लाइन में भी खड़ा होना पड़ता था। टिकट न मिलने पर निराश होकर घर लौट आते थे। अब टैलीविज़न पर घर बैठे ही फिल्में देखी जा सकती हैं। हमारे देश में विदेशी फिल्मों के अतिरिक्त अपनी फिल्में भी टैलीविज़न पर दिखाई जाती हैं।

टैलीविज़न द्वारा शिक्षा के प्रसार में भी बहुत सहायता मिलती है। रेडियो पर सुनाई विधि तो भूल सकती है किन्तु टेलीविज़न पर क्रियात्मक रूप से करके दिखलाया गया कार्य बड़ी सरलता से समझ में आ जाता है और थोड़े किये भूलता भी नहीं। स्कूलों और कालिजों के विद्यार्थियों के प्रशिक्षण के लिए यह एक सशक्त और सफल साधन है। टैलीविज़न द्वारा खेतीबाड़ी की विधियां भी किसानों को समझाई जाती हैं। यदि प्रत्येक पंचायत को सरकार द्वारा एक-एक सैट दे दिया जाये या पंचायतें स्वयं खरीद लें तो इससे किसान भाइयों को बहुत लाभ पहुंच सकता है। साथ ही नई विधियों द्वारा अन्न, फल और सब्जियों के उत्पादन को भी बढ़ाया जा सकता है। टैलीविज़न द्वारा नृत्य, संगीत और खेलों का भी समुचित प्रशिक्षण दिया जा सकता है। सामान्य जनता को परिवार नियोजन के साधनों एवम् लाभों से परिचित करवा कर जनसंख्या की वृद्धि पर नियंत्रण किया जा सकता है। आम रोगों और उनके बचाव आदि के कार्यक्रम प्रदर्शित करके जनता को स्वस्थ्य बनाया जा सकता है और औषधियों पर खर्च होने वाले रुपये को अन्य विकास कार्यों में लगाया जा सकता है।

भारत जैसे विशाल देश में टैलीविज़न भावनात्मक एकता भी ला सकता है। टैलीविज़न द्वारा महान् नेताओं, लेखकों, अभिनेताओं, विदेशी नेताओं या कलाकारों से मानो एक प्रकार का साक्षात्कार ही हो जाता है। विविध मैचों आदि के प्रदर्शन की भी व्यवस्था होती है। समाचार भी सुनाये जाते हैं और राष्ट्रपति तथा प्रधानमन्त्री आदि के भाषणों को भी हम टैलीविज़न पर देख और सुन सकते हैं।

टैलीविज़न ने बच्चों के बौद्धिक और मानसिक विकास में बहुत सहायता दी है। जिन घरों में टैलीविज़न सैट हैं, उन घरों के बच्चों का सामान्य ज्ञान अन्य बच्चों की तुलना में बहुत विकसित है।

जहां टैलीविज़न के लाभ हैं वहां कुछ हानियां भी हैं। पिछले दिनों दिल्ली के एक डाक्टर ने चेतावनी दी थी कि छोटे बच्चों को टैलीविज़न नहीं देखना चाहिए, क्योंकि इससे बच्चों के स्नायु संस्थान पर बुरा प्रभाव पड़ता है और उनको मिरगी जैसे दौरे पड़ने लगते हैं। टैलीविज़न से ज्ञान चाहे बढ़ता है, किन्तु जो बच्चे रात को अधिक देर तक टैलीविजन देखते रहते हैं वे प्राय: स्कूल या कालिज की शिक्षा में पिछड़ जाते हैं क्योंकि वे अपनी पढ़ाई की ओर पूरा ध्यान नहीं देते।

आधुनिक टैलीविज़न का जन्म इंग्लैंड के वैज्ञानिक जॉन एल. बेयर्ड ने 1925 में किया। धीरे-धीरे अन्य वैज्ञानिकों के सहयोग से इसकी तकनीक में सुधार एवं परिवर्तन किए जाने लगे। 1951 में दिल्ली में प्रथम दूरदर्शन केन्द्र स्थापित किया गया। 1965 में सार्वजनिक प्रसारण हुए लेकिन इनकी प्रसारण-क्षेत्र सीमा बहुत कम थी। 1975 में उपग्रह की सहायता से प्रसारण क्षेत्र में विस्तार हुआ तो अन्य शहरों तक पहुंचा। अब प्रसारण की समय सीमा 24 घण्टे है तथा क्षेत्र भी बढ़ गया है।

टैलीविज़न का सम्बन्ध पहले मनोरंजन के साथ था, परन्तु अब यह शिक्षा के क्षेत्र में भी सहायक हो रहा है। ग्रामीण किसानों के लिए यह खेती-बाड़ी में सहायता कर रहा है। व्यापारियों, कलाकारों, अध्यापकों को उनके विषयों की जानकारी देता है। कला-प्रेमियों को यह अनेक कलात्मक जानकारियां देता है। एक उपग्रह द्वारा 40% जनता को शिक्षित किया जा सकता है। आज इन्दिरा गांधी ओपन यूनिवर्सिटी द्वारा जो शैक्षिक कार्यक्रम नैशनल चैनल पर प्रसारित होता है, वह विज्ञान, गणित तथा यू. जी. सी. परीक्षाओं के लिए बहुत लाभदायक है। चिकित्सा के क्षेत्र में दूरदर्शन का योगदान बहुत महत्त्वपूर्ण है। दवाईयों का बनाना, उनके ‘साल्ट’, उन की मात्रा, उनके उपयोग, उनकी हानियों आदि का पूरा विवरण टैलीविज़न पर दिया जाता है। शल्य-चिकित्सा क्षेत्र में दूरदर्शन पर बड़े-बड़े आप्रेशन दिखाए जाते हैं। मस्तिष्क, हृदय, गुर्दो का आप्रेशन भी सफलता से दिखाया जा चुका है।

कृषि के क्षेत्र में प्राप्त की जा रही सफलताओं को टैलीविज़न पर प्रदर्शित किया जाता है। किसानों को कृषि की नई-नई मशीनों, औज़ारों से परिचित कराया जाता है। मौसम की जानकारी किसानों को पहले से दे दी जाती है। इसी के अनुसार किसान अपनी खेती की देखभाल करते हैं।

टैलीविज़न द्वारा राष्ट्रीय, संस्कृतिक और भावात्मक एकता का प्रचार किया जाता है। एक प्रदेश का नागरिक जब दूसरे प्रदेश के सांस्कृतिक कार्यक्रम देखता है तो उनके रहन-सहन, वेश-भूषा, खान-पान, आचार-विचार से प्रभावित होता है और उन्हें अपनाने की कोशिश करता है। इसलिए तमिलनाडु, गुजरात और बंगाल के पकवान पंजाब में लोकप्रिय हो रहे हैं और पंजाब के व्यंजन विदेशों तक जा पहुंचे हैं। राष्ट्रीय कार्यक्रमों के प्रसारणों जैसे 15 अगस्त, 26 जनवरी आदि समारोही द्वारा राष्ट्रीय और भावात्मक एकता पैदा की जाती है।

Thank you for reading. Don’t forget to give us your feedback.

अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे।

Share this :

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *