Garmi Ki Chuttiyan Kaise Bataye Patra | गर्मी की छुट्टियाँ कैसे बिताई मित्र को पत्र

Write a letter to your friend inviting him to spend summer vacation with you in Hindi. “Garmi Ki Chuttiyan Kaise Bataye Patra”.

Garmi Ki Chuttiyan Kaise Bataye Patra
गर्मी की छुट्टियाँ कैसे बिताई

Garmi Ki Chuttiyan Kaise Bataye Patra

15, माडल टाऊन,

फगवाड़ा,

19,जून 19….

परम स्नेही अजय,

                                      सप्रेमाभिवादन।

              आशा है कुशल होंगे। जैसे कि तुम्हें विदित ही है कि परीक्षा का भूत सिर से भाग गया है और सब समस्या ग्रीष्मावकाश को व्यतीत करने की है। धीरे-धीरे ग्रीष्म का प्रकोप बढ़ता जा रहा है और सूर्य देवता अपनी गर्मी से धरती को तपा रहे हैं। अब तो छाया भी छाया ढूंढती है। स्वाभाविक है कि अब खेलने का कार्यक्रम भी शिथिल पड़ जायेगा। बाहर नहीं निकलेंगे तो घर में पड़े-पड़े पंखों की गर्म हवा के नीचे शरीर पसीने से लथपथ होता रहेगा। अतः मेरा विचार है कि इस बार हम दोनों ग्रीष्मावकाश को मसूरी में बितायें। मसूरी पहाड़ों की रानी कही जाती है तथा देहरादून से काफी ऊंचाई पर यह छोटा सा खूबसूरत शहर बसा हुआ है। मेरे चाचा जी सपरिवार वही रहते हैं तथा उनके पास रहने के लिए अपना विशाल भवन है।


              मसूरी में गर्मियों के दिनों में वैसे ही चहल-पहल हो जाती है क्योंकि देश के कोने-कोने से यात्री वहां पहुंचते हैं। किसी भी क्षण वहां मेघ उमड़-घुमड़ आते हैं और वर्षा की बौछारों से मसूरी को धो डालते हैं। क्योंकि मसूरी ढलान पर बसा हुआ है इसलिए कहीं पानी भी इकट्ठा नहीं होता। वहां से दूर-दूर तक हिमाच्छादित चोटियां नज़र आती हैं तथा प्रकृति के सुहावने दृश्य मन को मोहित करते हैं।


              मेरा विचार है कि तुम मेरे सुझाव को पसंद करोगे। अध्ययन के लिए भी कुछ पुस्तकें साथ लें चलेंगे। खेलने के लिए समस्या नही होगी क्योंकि मेरा चचेरा भाई अपनी स्कूल की बैंडमिन्टन टीम का कप्तान है। उसके साथ हम भी बैटमिन्टन खेलेंगे।


              लौटती डाक से अपनी सहमति की सूचना भेज देना ताकि मैं उन्हें भी सूचित कर सूकं। मौसा जी और मौसी को मेरी ओर से चरण वन्दना। नटखट दीपू को प्यार। तुम्हारे पत्र की परीक्षा में,

तुम्हारा ही अभिन्न मित्र

दीपक

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *