हमारा प्यारा भारत पर निबंध Hamara Pyara Bharat Nibandh

Hamara Pyara Bharat Nibandh. हमारा प्यारा भारत पर निबंध। कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 और 12 के बच्चों और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए हमारा प्यारा भारत पर निबंध हिंदी में। Learn Hamara Pyara Bharat Nibandh in Hindi to score well in your exam.

Hamara Pyara Bharat Nibandh in Hindi – हमारा प्यारा भारत पर निबंध

Hindiinhindi Hamara Pyara Bharat Nibandh

Hamara Pyara Bharat Nibandh in Hindi 200 Words

हम जिस देश के वासी हैं वहाँ प्यार का उजाला है। ज्ञान का उजाला है, भाईचारे का उजाला है, लहलहाते खेतों का उजाला है। सचमुच हमारा देश महान है।

भारत वह देश है जहाँ देवता भी जन्म लेने के लिए तरसते हैं। यह प्रकृति का लाडला देश है। हिमालय इसके उत्तर में मुकुट की तरह सुशोभित है। दक्षिण में हिंद महासागर इसके चरण धो रहा है। इसके पूर्व में बंगाल की खाड़ी तथा पश्चिम में अरब सागर है। गंगा और यमुना नदियाँ इसके हृदय पर हार की तरह शोभा देती हैं। स्वर्ग जैसा सुंदर कश्मीर हमारा मस्तक है।

भारत की संस्कृति बहुत पुरानी और महान है। संसार को आचार-विचार, व्यापार-व्यवहार और ज्ञानविज्ञान की शिक्षा-दीक्षा भारत से मिली है। क्षमा, करुणा और उदारता की त्रिवेणी सबसे पहले इसी देश में बही है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति के कारण ही हमारा प्यारा भारत विश्वगुरु’ कहलाता है।

अनेकता में एकता भारत की पहचान है। हमारा भारत कभी सांप्रदायिक या संकुचित नहीं रहा। इसलिए इस देश में अनेक धर्म पनपे हैं। यहाँ के जनजीवन में विविधता के बावजूद एकता रही है। यह इस देश की महानता का एक विशिष्ट पहलू है। यह ठीक है कि भारत कई सदियों तक पराधीन रहा, परंतु इसकी आत्मा को कोई विदेशी शक्ति कभी नहीं जीत पाई। आज पुरी दुनिया भारत के विचारों को महत्त्व देती है। विश्वशांति और मानवता के रक्षक इस देश को अपना कहने में मुझे सचमुच एक अनोखा गर्व होता है।

Indian National Calendar in Hindi

Indian Caste System Essay In Hindi

Hamara Pyara Bharat Nibandh in Hindi 250 Words

विचार – बिंदु – • आकर्षक भौगोलिक सौंदर्य • प्राचीन संस्कृति • शांतिप्रिय राष्ट्र • चहुंमुखी विकास।

हमारा राष्ट्र भारत है। इसका नक्शा देखें तो यों लगता है मानो कोई मानव-आकृति सामने खड़ी है। काश्मीर इसका सिर है। गुजरात और असम इसकी दो भुजाएँ हैं। कन्याकुमारी इसके चरणों के समान है। हम भारतवासी अपने देश को माँ मानकर उसकी पूजा करते हैं। भारत की सुंदरता के सभी दीवाने हैं। काश्मीर और हिमाचल की पहाडियाँ, राजस्थान की रेत, दक्षिण भारत के समुद्री तट, पंजाब और उत्तर प्रदेश के मैदानी भाग सबका मन मोह लेते हैं। यह राष्ट्र अत्यंत प्राचीन है। हड़प्पा और मोहन जोदड़ो की संस्कृति हमें बताती है कि हमारे पूर्वज बहुत पहले से ही सभ्य, सुसंस्कृत, उन्नत और समृद्ध थे।

भारत ने विश्व को अनेक धर्म दिए। बौद्ध, जैन, सिख धर्म इसी धरती की देन हैं। यहाँ के लोगों ने करुणा से भरकर विश्व को दया का दान दिया। उन्हें ज्ञान और सभ्यता का दान दिया, किंतु भूलकर भी अन्य किसी देश पर कब्जा नहीं किया। हमने सदा यही कहा है – जीते हैं तुमने देश तो क्या, हमने तो दिलों को जीता है। आज भारत चहुंमुखी उन्नति की ओर बढ़ रहा है। उद्योगों में हम अमरीका, चीन और जापान को भी चुनौती दे रहे हैं। हमारी कला, फिल्में और सुंदरियाँ विश्वभर में चर्चित हो रही हैं। अध्यात्म के क्षेत्र में हमारे साधु, बाबा और महात्मा पूरे विश्व को आज भी प्रभावित कर रहे हैं। खेलों में हम अवश्य ही पीछे हैं। जल्दी ही हम यह लक्ष्य भी पा लेंगे।

More related links

Foreign Policy of India in Hindi

Essay on India and Pakistan in Hindi

Essay on National Anthem of India in Hindi

Essay on National Song of India in Hindi

Thank you for reading. Don’t forget to give us your feedback.

अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *