Homi Jehangir Bhabha in Hindi

History of Homi Jehangir Bhabha in Hindi. Read about Homi Jehangir Bhabha Biography in Hindi essay and history. होमी जहांगीर भाभा जीवन परिचय, जीवनी, निबंध। कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 और 12 के बच्चों और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए होमी जहांगीर भाभा की जीवनी हिंदी में। Information about Homi Jehangir Bhabha in Hindi along with history in Hindi. Learn Homi Jehangir Bhabha information in Hindi in more than 400 words.

hindiinhindi Homi Jehangir Bhabha in Hindi

शायद आपने अपने से बड़े लोगों को कभी परमाणु बम की बात करते सुना हो। आपने सुना होगा कि यह बहुत खतरनाक होता है। हाँ, यह बिलकुल सच है। परमाणु बम से पूरी धरती का नाश किया जा सकता है। लेकिन यूँ तो हम चाकू से भी किसी को चोट पहुँचा सकते हैं, पर उसी चाकू से मम्मी हमारे लिए सब्ज़ियाँ और फल भी तो काटती हैं न! दरअसल, कोई भी चीज अच्छी है या बुरी, यह इससे तय होता है कि हम उसे कैसे काम में लेते हैं।

परमाणु बम परमाणु ऊर्जा से बनते हैं। इसी परमाणु ऊर्जा का इस्तेमाल कर हम बहुत सारी बिजली भी बना सकते हैं। होमी जहाँगीर भाभा ने परमाणु ऊर्जा को काम में लेते हुए बिजली बनाने जैसी अच्छी और सबको लाभ पहुँचाने की बात कही। वे भारत के प्रमुख परमाणु वैज्ञानिक थे, जिन्होंने हमारे देश के परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम को तैयार किया था। उन्होंने कुछ वैज्ञानिकों के साथ मार्च, 1944 में नाभिकीय ऊर्जा पर शोध का काम शुरू किया था, तब कोई भी यह मानने को तैयार ही नहीं था कि उससे बिजली भी बनाई जा सकती है।

उनका जन्म मुंबई में 30 अक्तूबर, 1909 को हुआ। बी०एस-सी० करने के बाद वे पी-एच०डी० के लिए कैम्ब्रिज चले गए। इसके बाद उन्होंने जर्मनी में रहकर कॉस्मिक किरणों पर प्रयोग किए। भारत वापस लौटकर उन्होंने अपने प्रयोगों और शोध को आगे बढ़ाया। भारत को परमाणु शक्ति बनाने के लिए उन्होंने टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च की स्थापना की। 1948 में जब भारत सरकार ने परमाणु ऊर्जा आयोग बनाया तो उन्हें उसका पहला अध्यक्ष बनाया गया। 1953 में जेनेवा में हुए विश्व परमाणु वैज्ञानिकों के सम्मेलन में उन्हें सभापति बनाया गया। वे चाहते थे कि परमाणु ऊर्जा का उपयोग गरीबी हटाने और लोगों का भला करने के लिए हो। उन्होंने अपना पूरा जीवन अपने इसी सपने को सच करने में बिता दिया। आज भारत की गिनती उन कुछ देशों में होती है, जिनके पास परमाणु ऊर्जा की ताकत है। यह सब होमी भाभा की कोशिशों का ही फल है। भारतीय परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम के जनक होमी जहाँगीर भाभा का 24 जनवरी, 1966 को एक विमान दुर्घटना में निधन हो गया।

Thank you for reading Homi Jehangir Bhabha in Hindi language. Give your feedback on this biography.

अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे।

Share this :

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *