पुस्तक मंगाने के लिए प्रकाशक को पत्र Pustak Mangwane Ke Liye Patra

मान लो आपका नाम मोहन कुमार है। आप 20, नेहरू पार्क नाभा में रहते हैं। चंडीगढ़ के प्रकाशक-अमन बुक स्टोर से आप कुछ पुस्तकें मंगवाना चाहते हैं। इस समय में आप उन्हें पत्र लिखिए। Pustak Mangwane Ke Liye Patra. पुस्तक मंगाने के लिए प्रकाशक को पत्र। If you are found of reading books in liberary and you want some addition in books, this letter will help you to write a perfect letter.

Pustak Mangwane Ke Liye Patra

1 – पुस्तक प्रकाशक को वी.पी.पी द्वारा पुस्तकें भेजने के लिए अनरो पत्र।

दिनांक: 28।08।20।

सेवा में,

कैन्ट पब्लिशर्ज,
339, अड्डा टांडा, पुस्तक बाजार,
जालंधर-144008

महोदय,

कृपया निम्नलिखित पुस्तकों की दो-दो प्रतिलिपियाँ वी।पी।पी। द्वारा नीचे लिखे पते पर भेजने का कष्ट करें।

1. कैन्ट सामान्य हिंदी (भाग-1) मूल्य : 70 रु प्रकाशक : कैन्ट पब्लिशर्ज
2. कैन्ट हिंदी निबंध मूल्य : 60 रु प्रकाशक : कैन्ट पब्लिशर्ज
3. कैन्ट इंगलिश ऐसेज़ मूल्य : 60 रु प्रकाशक : कैन्ट पब्लिशर्ज

आशा है कि आप उक्त पुस्तकें जितनी जल्दी ही सके भेज देंगे। छपी हुई कीमत पर विशेष छूट प्रदान करें। मैं वचन देता हूं कि मैं पोस्टमैन को पैसे देकर वी।पी।पी छुड़ा लूंगा।

215, सैक्टर 15-A, चण्डीगढ़

भवदीय,
राम प्रकाश कपूर

Application letter in Hindi

Letter to teacher for seat change in Hindi

Essay on Library in Hindi

2 – पुस्तक प्रकाशक को पुस्तकें भेजने के लिए अनरो पत्र।

20, नेहरू पार्क,
नाभा,
1 जनवरी, 19..

सेवा में,

          व्यवस्थापक जी
          अमन बुक स्टोर
          चंडीगढ़।

महोदय,

          कृपया मेरे इस पत्र को प्राप्त करते ही वी. पी. पी. द्वारा निम्नलिखित पुस्तकें उपरोक्त पते पर शीघ्र भेज दें। पुस्तकें बांधते समय इस बात का ध्यान अवश्य रखिए कि पुस्तकें फटी न हों तथा उनके पृष्ठ आदि ठीक हों और क्रम से लगे हों। क्योंकि कई बार देखा गया है कि पुस्तकों के पृष्ठ ठीक नहीं जुड़े होते हैं और उससे पुस्तकें शीघ्र ही फट जाती हैं। विद्यार्थियों के लिए आप जो कमीशन देते हैं, उसे काटकर वी. पी. पी. भेजने की कृपा करें।
           * मेरे निबंध – 5 प्रतियां
           * लोको-पोको हिंदी गाइड – 5 प्रतियां
           * हिंदी गाइड कक्षा 9 – 2 प्रतियां
           * कहानियो का भंडार – 2 प्रतियां

                                            धन्यवाद।

भवदीय
मोहन कुमार

प्रकाशक,
अमन बुक स्टोर
चंडीगढ़

Essay on My School Library in Hindi

Vidyalaya ki visheshta batate hue Patra

Suggestion Letter for Public Issue in Hindi

Thank you for reading the Letter to order book in Hindi. Send your feedback through the comment box.

अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे।