Surdas in Hindi सूरदास

Know about Surdas in Hindi. सूरदास। Read Biography of Surdas in Hindi. कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 और 12 के बच्चों और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए सूरदास की जीवन परिचय हिंदी में। Surdas got recoginition for ‘Surdas ke dohe in Hindi’, ‘Surdas ke pad’ and ‘Surdas ke pad in Hindi on Krishna childhood’. Today we will talk about Surdas information in Hindi, dohe of Surdas and Surdas ki jivani. Many people are found of Surdas ki rachnaye

hindiinhindi Surdas in Hindi

Biography of Surdas in Hindi

Surdas Ka Jeevan Parichay. सूरदास का जीवन परिचय।

कृष्णभक्त कवियों में सूरदास का नाम सबसे पहले लिया जाता है। सूरदास सगण भक्ति शाखा के महान कवि थे। उनके जन्म-समय को लेकर विद्वानों की राय एक नहीं है, फिर भी माना जाता है कि उनका जन्म सन् 1478 में मथुरा-आगरा के रास्ते में बसे ‘रुनकता’ नामक एक गाँव में हुआ।

हालाँकि कुछ विद्वान् मानते हैं कि सूरदास का जन्म सीही नाम वाले एक गाँव में ब्राह्मण परिवार में हुआ था। बाद में ये आगरा और मथुरा के बीच गऊघाट पर रहने लगे थे। उनके पिता रामदास एक गायक थे। सूरदास के गुरु का नाम वल्लभाचार्य था। कहते हैं कि उन्होंने ही सूरदास को कृष्णलीला के पद गाने का आदेश दिया था।

कुछ लोगों का कहना है कि सूरदास बचपन से ही नेत्रहीन थे, जबकि कुछ का मानना है कि उन्होंने अपने नेत्र बाद में खोए। उन्हें जन्म से नेत्रहीन नहीं मानने वालों का कहना है कि उन्होंने अपने पदों में राधा-कृष्ण के रूप, कृष्ण भगवान की बाल-लीला, रंगों आदि का बहुत सुंदर वर्णन किया है, जो कोई नेत्रहीन व्यक्ति नहीं कर सकता। ‘आईने अकबरी’ नामक किताब में उन्हें अकबर के दरबारी संगीतज्ञों में से एक बताया गया है।

सूरदास जी ने पाँच ग्रंथ रचे थे, जो सूरसागर, सूरसारावली, साहित्य लहरी, नल दमयंती और ब्याहलो के नाम से जाने जाते हैं। इनमें से नल दमयंती और ब्याहलो नहीं मिल सके हैं। उनके ग्रंथों में भगवान् श्रीकृष्ण की बाललीला से लेकर रासलीला तक का इतना सुंदर वर्णन किया गया है। मानो सभी घटनाएँ उनके सामने ही घटित हुई हों। उन्हें वात्सल्य रस का सम्राट् माना जाता है। हालाँकि श्रृंगार रस की उनकी कविताएँ भी बेजोड हैं। माना जाता है कि उनकी मृत्यु गोवर्धन के पास पारसौली गाँव में सन् 1580 में हुई।

Thank you for reading Surdas in Hindi language. Give your feedback on this biography.

अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे।

Share this :

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *