Republic Day Essay in Hindi – गणतंत्र दिवस पर निबंध

गणतंत्र दिवस पर निबंध – Republic Day Essay in Hindi – कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 और 12 के बच्चों और विद्यार्थियों के लिए गणतंत्र दिवस पर निबंध हिंदी में। Students today we are going to discuss a very important topic i.e Republic Day essay in Hindi. Republic Day essay in Hindi is asked in many exams. The long essay on Republic Day in Hindi is defined in more than 900 words. Learn about Republic Day essay in Hindi and bring better results in our exam.

Republic Day Essay in Hindi – गणतंत्र दिवस पर निबंध

Republic Day Essay in Hindi
गणतंत्र दिवस पर निबंध – Essay on Republic Day In Hindi

Republic Day Essay in Hindi 400 Words – गणतंत्र दिवस पर निबंध

गणतंत्र दिवस भारत का राष्ट्रीय पर्व है। यह दिवस भारत के गणतंत्र बनने की खुशी में मनाया जाता है। पूरा भारतवर्ष हर साल गणतंत्र दिवस बड़े धूमधाम से मनाता है क्योकि इसी दिन भारत का संविधान लागू हुआ था। 26 जनवरी, 1950 के दिन भारत को एक गणतांत्रिक राष्ट्र घोषित किया गया था। 1947 में ब्रिटिश शासन से आजादी पाने के बाद भी भारत स्व-शासित देश नहीं था। 1950 में जब भारत का संविधान लागू हुआ तब भारत एक स्व-शासित देश बन गया। इसलिए हम हर साल गणतंत्र दिवस के रूप में इस दिन को धूमधाम से मनाते हैं। भारत सरकार द्वारा इस दिन को राष्ट्रीय अवकाश भी घोषित किया गया है। भारत के लोग इस महान दिन को अपने तरीके से मनाते है।

गणतंत्र का अर्थ सभी देश के लोगों को शक्ति और स्वतंत्रता है ताकि देश को सही क्षेत्र या दिशा में नेतृत्व करने के लिए अपने नेताओं को चुन सकें। भारत एक गणराज्य देश है जहां जनता एक नेता, राष्ट्रपति, प्रधान मंत्री आदि के रूप में अपने नेताओं का चुनाव करती है।

गणतंत्र दिवस पर भारत के राष्ट्रपति के समक्ष नई दिल्ली के राजपथ (इंडिया गेट) पर परेड का आयोजन होता है। भारत के संविधान के अनुसार डॉ. राजेन्द्र प्रसाद स्वतंत्र भारत के प्रथम राष्ट्रपति बने थे। भारत की जनता ने देश भर में खुशियाँ मनाई थी। तब से 26 जनवरी को हर वर्ष गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाने लगा।
हमारे महान भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों ने भारत में पूर्ण स्वराज लाने के लिए बहुत कुछ संघर्ष किया है। उन्होंने ऐसा इसलिए किया ताकि उनके आने वाली पीढ़ी काँ कोई संघर्ष न करना पड़े और वो देश को आगे लेकर जा सकें। उनमें से हमारे कुछ महान भारतीय नेताओं और स्वतंत्रता सेनानियों का नाम हैं महात्मा गांधी, चन्द्र शेखर आजाद, भगत सिंह, उधम सिंह, सरदार बल्लभ भाई पटेल, लाला लाजपत राय, लाल बहादुर शास्त्री, जवाहर लाल नेहरू इत्यादि हैं। यह सभी लोग भारत को एक स्वतंत्र देश बनाने के लिए ब्रिटिश शासन के खिलाफ लगातार लड़ते रहे।

26 जनवरी के दिन राष्ट्रीय अवकाश होता है लेकिन फिर भी गणतंत्र दिवस के दिन देश भर में विशेष कार्यक्रम होते हैं। विद्यालयों, कार्यालयों तथा सभी प्रमुख स्थानों में राष्ट्रीय झंडा तिरंगा फहराया जाता है। सभी बच्चे इनमें उत्साह से भाग लेते हैं। लोग एक-दूसरे को बधाई देते हैं, मिठाई खिलाते हैं। स्कूली बच्चे जिला मुख्यालयों, प्रांतों की राजधानियाँ तथा देश की राजधानी के परेड में भाग लेते हैं। विद्यालयों में लोकनृत्य, लोकगीत, राष्ट्रीय गीत तथा विभिन्न प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम होते हैं।

Republic Day Essay in Hindi 500 Words – गणतंत्र दिवस पर निबंध

जो भरा नहीं है भावों से, बहती जिसमें रसधार नहीं,

वह हृदय नहीं, पत्थर है, जिसमें देश से प्यार नहीं।

हमारे देश में अनेक पर्व और उत्सव मनाए जाते हैं। उनमें से कुछ त्योहार जाति विशेष तक ही सीमित होते हैं। लेकिन राष्ट्रीय पर्व तो प्रत्येक नागरिक के मन में उत्साह पैदा करते हैं।

26 जनवरी 1930 में जब लाहौर में रावी नदी के किनारे एक अधिवेशन हुआ तो उसमें भारतवासियों ने राष्ट्रीय झण्डे के नीचे खड़े होकर प्रतिज्ञा की कि हम भारत की आजादी की माँग करेंगे और उसके लिए अन्तिम साँस तक संघर्ष करेंगे।

15 अगस्त 1947 को भारत के स्वतन्त्र होने के बाद डॉ. बी. आर. अम्बेडकर ने भारत का नया संविधान तैयार किया था। जिसे 26 जनवरी 1950 को लागू किया गया । उस दिन भारत को गणतन्त्र राज्य घोषित किया गया । 26 जनवरी को ही गणतन्त्र दिवस कहते हैं। डॉ. राजेन्द्र प्रसाद गणतन्त्र भारत के पहले राष्ट्रपति थे। उन्होंने पहली बार दिल्ली के लाल किले पर झंडा फहराया था।

*26 जनवरी आकर कहती है हमें बारम्बार,

संघर्षों से ही मिलता है जीने का अधिकार |

तब से प्रति वर्ष 26 जनवरी को यह पर्व मनाने की परम्परा चली आ रही है । यह पर्व पूरे भारत में धूमधाम से मनाया जाता है। परन्त भारत की राजधानी दिल्ली में तो गणतन्त्र समारोह की शोभा ही निराली होती है । परेड शुरू होने से पहले प्रधानमंत्री इंडिया गेट पर अमर जवान ज्योति’ पर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं। राष्ट्रपति भवन से राष्ट्रपति की सवारी अपने अंगरक्षकों के साथ 14 घोड़ों वाली बग्घी में निकलती है। जब सवारी इंडिया गेट पर आती है वहाँ पर प्रधानमंत्री आदरणीय राष्ट्रपति का स्वागत करते हैं । कनॉट प्लेस, अजमेरी गेट, चाँदनी चौंक से होता हुआ लाल किले तक जाकर समाप्त हो जाती है। सलामी देने के लिए थल सेना, जल सेना, वायु सेना की चुनी हई टुकडियाँ सवारी के साथ-साथ चलती है। राष्ट्रीय धन के साथ राष्ट्रपति ध्वजारोहण करते हैं । इक्कीस तोपों की सलामी दी जाती है । वायुयान करतब दिखाते हुए राष्ट्रपति को सलामी देते है।

हैलीकॉप्टरों से फूल बरसाए जाते हैं । आकाश में तिरंगे गुब्बारे और सफ़ेद कबूतर छोड़े जाते हैं । अशोक चक्र’, ‘कीर्ति चक्र’ एवं ‘राष्ट्रीय बहादुरी पुरस्कार’ आदि राष्ट्रपति द्वारा प्रदान किए जाते हैं । हर प्रदेश द्वारा लोक-नृत्य, शिल्प-कला एवं विकास कार्यों की झांकियाँ प्रस्तुत की जाती हैं । इस समारोह को देश-विदेश से लोग देखने आते हैं । यह पर्व हमारी राष्ट्रीय एकता को मजबूत करता है । इस दिन विद्यालयों लयों एवं कार्यालयों में कार्यक्रम आयोजित कर ध्वजारोहण किए जाते हैं । रात को सरकारी भवनों पर रोशनी की जाती है । इस दिन के उपलक्ष्य में हमें यह प्रतिज्ञा करनी चाहिए कि –

“तेरी रक्षा तन, मन- धन से, हम सब सदा करेंगे मिलकर ।

तेरे लिए जियेंगे हम सब, तेरे लिए मरेंगे मिलकर ।।”

तभी हम उन वीरों का कर्ज चुकता कर सकेंगे और अपनी आजादी को कायम रख सकेंगे ।

Hindi Essay: Thank you for reading Republic Day essay in Hindi. Read and write 300 words Republic Day essay in Hindi. Send back your feedback about this essay.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *