Essay on Dussehra in Hindi – दशहरा पर निबंध हिंदी में

दशहरा पर निबंध हिंदी में – Essay on Dussehra in Hindi – कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 और 12 के बच्चों और विद्यार्थियों के लिए दशहरा पर निबंध हिंदी में। Students today we are going to discuss a very important topic i.e essay on Dussehra in Hindi. Dussehra essay in Hindi is asked in many exams. The long essay on Dussehra in Hindi is defined in more than 1500 words. Learn an essay on Dussehra in Hindi and bring better results.

Essay on Dussehra in Hindi – दशहरा पर निबंध

Essay on Dussehra in Hindi
दशहरा पर निबंध – Essay on Dussehra in Hindi

Essay on Dussehra in Hindi 250 Words

दशहरा हिंदुओं का एक बहुत बड़ा त्यौहार है जिसे पूरे भारत में बड़े ही हर्षो-उल्लास से मनाया जाता हे. अष्विन महीने के शुक्लपक्ष की दशमी को इसका आयोजन होता है. दशहरे वाले दिन भगवान राम ने लंका पति रावण को युद्ध में हराया था तथा मां दुर्गा ने 9 रात्रि 10 दिन के युद्ध के बाद महिषासुर पर विजय प्राप्त की थी. इस शुभ अवसर को सत्य की विजय के रूप में मनाया जाता हे. इसी लिए इस त्यौहार को विजय दशमी के नाम से जाना जाता है.

साल की तीन शुभ तिथियों में से एक दसहरा हे, अन्य दो चैत्र शुकल और कार्तिक शुकल की प्रतिपदा हे. दसहरे वाले दिन लोग शस्त्र पूजा करते हे और शुभ तिथि होने के कारण नया कार्य प्रारम्भ करते हे. पुराने समय में राजा लोग इसी दिन विजय की प्राथना कर रणन यात्रा के लिए निकल जाते थे. आज कल इस दिन जगह जगह मेले लगते हे और खास तोर पर रावण, कुम्भकरण और मेघनाथ के पुतले जलाये जाते हे. इसे भगवन राम की विजय के रूप में अथवा माँ दुर्गे पूजा के रूप में, दोनों की रूपों से ये शक्ति पूजा का पर्व हे और शस्त्र पूजन की तिथि हे.

भारत देश में ये त्यौहार भिन-भिन प्रकार से मनाया जाता हे. हिमाचल प्रदेश में कुल्लू का दसहरा भारत में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में प्रसिद्ध हे. वह के लोग धूमधाम से जुलूस निकल कर बड़े धूम धाम से दसहरे को मनाते हे और पूजन करते हे. बस्तर में माँ संतेश्वरी की आराधना के द्वारा दसहरे का त्यौहार मनाया जाता हे.

Essay on Dussehra in Hindi 250 Words

Dussehra essay in hindi
दशहरा पर निबंध – Essay on Dussehra in Hindi

दशहरा एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिन्दू त्यौहार है जो पूरे भारत के लोगों के द्वारा हर साल बेहद हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। दशहरा को लोग विजयदशमी के नाम से भी जानते हैं। यह त्योहार अशिवन महीने के शुक्ल पक्ष में दस दिनों तक मनाया जाता है। भगवान राम ने इसी दिन रावण का वध किया था तथा देवी दुर्गा ने नौ रात तथा दस दिन के युद्ध के उपरांत महिषासुर पर विजय प्राप्त किया था। दशहरा को असत्य पर सत्य की विजय के रूप में मनाया जाता है। इसलिए इसे विजयादशमी के नाम से भी जाना जाता है।

दशहरा त्यौहार को कई सारे रीति-रिवाज और पूजा-पाठ के द्वारा मनाया जाता है। कुछ लोग देवी दुर्गा का आशीर्वाद पाने के लिये पूरे नौ दिन तक व्रत रखते है। पं.बंगाल, बिहार, झारखंड आदि राज्यों में महिषासुर और माँ दुर्गा की प्रतिमा स्थापित कर उनकी पूजा – अर्चना की जाती है। पुरे नौ दिनों तक दुर्गासप्तशती का पाठ चलता है। पूजा होने के बाद लोगों को प्रसाद वितरित किया जाता है और साथ में लंगर चलाने का कार्यक्रम भी किया जाता है। इसके अलावा कई जगहों पर 7 दिन या महीनों तक रामलीला का आयोजन किया जाता है। दुर्गा माता की मूर्ति की स्थापना कर पूजा करने वाले उनके भक्त दुर्गा माँ का मूर्ति-विसर्जन का कार्यक्रम भी गाज-बाजे के साथ करत है।

दशहरा के उत्सव पर स्कूल, कॉलेज और कार्यालय में कुछ दिनों के लिए छुट्टी मिल जाती है। लोग इस पर्व को ढेर सारी खुशी और उत्साह के साथ मनाते हैं। पूरे देश में रावण, कुम्भकर्ण और मेघनाथ का पुतला जलाने के साथ ही इस उत्सव का दसवा दिन मनाया जाता है।

Essay on Dussehra in Hindi 300 Words

दशहरा हिन्दुओं का प्रसिद त्योहार हे. इस दिन भगवन श्री राम ने लंका पति रावण को मार कर विजय प्राप्त की थी. इस दिन को बड़े उत्साह से दुनिआ भर में बड़ी धूम धाम से मनाया जाता हे. इस त्यौहार को सबसे ज्यादा भारत में मनाया जाता हे पर आज जहां-जहां भी भारत वासी या श्री राम जी के भगत हे, वह पर इस त्यौहार को बड़े ही उत्साह से मनाया जाता हे. दसहरे को विजय दशमी के नाम से भी जाना जाता हे, जो की नवरात्रो के आखिर में आता हे. दशहरा अशिवनं महीने की दसवीं तिथि को होता हे.

दसहरे के आठ दिन पहले राम-लीला की जाती है. जहां पर रामायण के तर्ज पर दुनिआ भर के लोगो को यह बताने की कोशिश की जाती हे की हमेशा असत्य पर सत्य की ही जीत होती हे. राम-लीला के माध्यम से पूरी रामायण की कहानी को मंच से दर्शाया जाता हे. राम-लीला ड्रामा के आखिर में रावण को मार कर समाप्ति की जाती हे. दसहरे के दिन खुले मैदान में बड़े बड़े रावण, कुम्भ-कारन और मेघनाथ के पुतलो को जलाया जाता हे. पुतला दहन के बाद खूब आतिशबाजी होती हे और लोग इस पूरे कार्यक्रम का भरपूर आनंद लेते हे. बंगाल में इसी दसहरे वाले दिन दुर्गा पूजा का उत्सव मनाया जाता हे.

भगवन राम चन्दर जी ने इस दिन लंका पति रावण को मार कर विजय प्राप्त की थी. इसी वजह से इस त्यौहार को विजय-दशमी कहते हे. विजय-दशमी के दिन असत्य पर सत्य की जीत हुई थी. पुराने समय में राजा गण वर्षा ऋतू बोल कर शत्रुओं पर चढ़ाई कर दिया करते थे.

इस समय वर्षा ऋतू के बाद शरद ऋतू शुरू होती हे. इन दिंनो किसान बहुत प्रसन होता हे क्युकी किसानो के खेतो के चावल लहलहा रहे होते हे.

Essay on Dussehra in Hindi 300 Words (Points)

essay on dussehra in hindi points

  • हमारे देश में बहुत से त्योहार मनाए जाते हैं। उनमें से दशहरा भी एक प्रसिद्ध त्योहार है, जो प्राय: अक्टूबर भास में मनाया जाता है।
  • इस त्योहार के मनाने के पीछे यह कथा प्रचलित है कि रावण लंका का राजा था। वह बहुत विद्धवान था। परन्तु उसको अपनी शक्ति का बहुत अभिमान था।
  • श्री राम के वनवास के दिनों में, रावण छल से सीता जी को पकड़ कर ले गया।
  • श्री राम ने हनुमान और सुग्रीव आदि मित्रों की सहायता से लंका पर हमला कर दिया।
  • दशहरे से नौ दिन पहले नगरों में रामलीला होती है। जिस में श्री राम जी के जीवन की यही कहानी नाटक के रूप में प्रस्तुत की जाती है।
  • दशहरा रामलीला का आखिरी दिन होता है। इस दिन स्थान-स्थान यर मेले लगते हैं। लोग टोलियो में मेला देखने जाते हैं।
  • इम दिन रावण, कुंभकर्ण तथा मेघनाद के पुतले बनाए जाते हैं।
  • इनके अंदर बड़े-बड़े पटाके लगाए जाते हैं। सायंकाल के समय राम और रावण के दलों में बनावटी लड़ाई होती है।
  • अंत में श्री राम जी ने रावण पर युद्ध में विजय प्राप्त क्री, ऐसा दर्शाया जाता है। फिर तीनों के पुतलों को आग लगाई जाती है, जिससे पटाखे फूट पड़ते हैं।
  • चारों तरफ बुराई यर अच्छाई की विजय की खुशी का वातावरण छा जाता है।
  • सड़कों यर भिन्न-भिन्न वस्तुओं के स्टॉल लगे होते हैं।
  • सभी लोग मिठाइयाँ, खिलौने आदि लेकर घरों को लौटते हैं।
  • पंजाब में इस त्योहार की खास मिठाई जलेबी मानी जाती है।
  • बंगाल में दसहरे के दिन दुर्गा माता की मूर्ति का पूजन, बाद में उनका जल-विसर्जन किया जाता है, वहाँ उसे दुर्गा – पूजा के रूप में मनाया जाता है।
  • हिमाचल प्रदेश में कुल्लू का दशहरा भी वहुत प्रसिद्ध है।
  • दशहरा बुराई पर अच्छाई की विजय का त्योहार है इसलिए इसे विजय दशमी भी कहते है।
  • यह त्योहार हमें अपने धर्म और संस्कृति को रक्षा करने की, अत्याचारों के समक्ष न झुकने की प्रेरणा देता है।
  • यह त्योहार क्रूरता व अन्य सामाजिक, बुराइयों को सहन न करने का संदेश भी देता है।

More Hindi Essay –

Essay on Diwali in Hindi

Essay on Holi in Hindi

Hindi Essay: Thank you for reading essay on Dussehra in Hindi. Read and write 300 words essay on Dussehra in Hindi. Send back your feedback about this essay.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *