Essay on Holi in Hindi होली के त्यौहार पर निबंध

Essay On Holi in Hindi for class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 और 12 के बच्चों और विद्यार्थियों के लिए होली के त्यौहार पर निबंध हिंदी में। What is Holi or why we celebrate Holi in Hindi? We have written a very short essay on Holi in Hindi/ Holi Nibandh. Now you can take an example to write a paragraph on Holi in Hindi and Holi essay in Hindi in a better way. We have added Holi festival essay in Hindi/ Essay on Holi in Hindi in 100, 200, 300, 350, 450 and 500 words. Now you can learn essay on Holi in Hindi language along with few lines on Holi in Hindi. If you get a chance to give Holi speech in Hindi you will find good sentences here. होली का त्योहार।

Essay on Holi in Hindi

hindiinhindi Essay on Holi in Hindi

Essay on Holi in Hindi 200 Words

होली का त्यौहार हर फागुन मार्च के महीने में मनाया जाता है। होली के साथ अनेक कथाएं जुडी है। होली मनाने के एक रात पहले होली को जलाया जाता है। इसके पीछे एक लोकप्रिय कथा है। भक्त प्रहलाद के पिता हरिण्यकश्यप स्वयं को भगवान मानते थे। उन्होने प्रहलाद को विष्णु भक्ति करने से रोका जब वह नहीं माने तो उन्होने प्रहलाद को मारने का प्रयास किया था।

प्रहलाद के पिता ने आखिर अपनी बहन होलिका से मदद मांगी और होलिका को आग में न जलने का वरदान प्राप्त था। होलिका अपने भाई की सहायता करने के लिए तैयार हो गई थी। होलिका प्रहलाद को लेकर चिता में जा बैठी परन्तु भगवान विष्णु जी की कृपा से प्रहलाद बचे रहे और
होलिका जल कर राख हो गई। इस कथा से इस बात की शिक्षा मिलती है कि बुराई पर अच्छाई की जीत हमेशा होती है। आज भी लोग होली जलाते है और अगले दिन सब लोग एक दूसरे पर गुलाल और तरह-तरह के रंग डालते है इस दिन लोग सुबह उठकर रंगों को लेकर अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों के साथ मिलकर होली खेलते है।

सभी लोग अपनी दुश्मनी भूलकर कर दोस्तों की तरह एक दूसरे से गले लगते है वह एक दूसरे को गुलाल लगाते है और मिठाईयाँ खाते है। होली का त्यौहार पूरे भारतवर्ष में धूमधाम से मनाया जाता है।

Essay on Holi in Hindi 300 Words

नीले, पीले, लाल, गुलाबी रंगों की बात चलते ही सबसे पहले मन में होली का खयाल आता है। सच ही तो है, होली हम भारत के लोगों के लिए केवल एक त्योहार ही नहीं, बल्कि रंगों का ही दूसरा नाम है। हर तरफ उड़ता रंग-गुलाल, पिचकारियाँ थामे नन्हे-नन्हे हाथ, ढोल के साथ होली के गीत और गुझिया का स्वाद! यही तो खासियत है इस त्योहार की।

होली का त्योहार फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है, इसलिए इसे फाल्गुनी भी कहते हैं। खेतों में सरसों के फूल खिल उठते हैं। पेड़-पौधों पर नई चमक आ जाती है। खेतों में गेहूं की बालियाँ नाचने लगती हैं। इस त्योहार की शुरुआत तो वसंत पंचमी से ही शुरू हो जाती है। यह त्योहार दो दिन का होता है। पहले दिन होलिका दहन किया जाता है। इसके लिए चौराहे या किसी खुली जगह पर एक डंडा गाड़कर उसके पास लकड़ियाँ और उपले इकट्ठे किए जाते हैं। उसका पूजन किया जाता है। लोग अपने घरों में बने पकवानों का यहाँ भोग लगाते हैं। दिन ढलने पर ग्रह-नक्षत्रों की स्थिति के आधार पर तय समय में होलिका जलाई जाती है। इसमें गेहूं की बालियाँ और चने के होले भी भूने जाते हैं।

होलिका दहन के पीछे एक कहानी है। माना जाता है कि हिरण्यकश्यप नाम का एक बहुत बलशाली असुर था। वह इतना घमंडी हो गया था कि उसने अपने राज्य में ईश्वर का नाम लेने पर ही पाबंदी लगा दी थी, लेकिन उसका पुत्र प्रहलाद ईश्वर–भक्त था। हिरण्यकश्यप की बहन होलिका को वरदान मिला हुआ था कि वह आग में भस्म नहीं हो सकती। हिरण्यकश्यप ने प्रहलाद को मारने की इच्छा से यह आदेश दिया कि होलिका प्रहलाद को गोद में लेकर आग में बैठे। ऐसा करने पर प्रह्लाद को तो भगवान् ने बचा लिया, लेकिन होलिका जल गई। भक्त प्रहलाद की याद में ही हर साल होलिका जलाई जाती है। यह त्योहार बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। दूसरे दिन रंग खेलने वाली होली यानी धुलेंडी मनाई जाती है। इस दिन लोग एक-दूसरे को रंग लगाते हैं और होली के गीत गाते हैं।

Essay on Holi in Hindi 350 Words

होली हिंदुओं का प्रमुख त्योहार है। होली रंगों का त्योहार है जिसे हर साल फाल्गुन (मार्च) के महीने में बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। सभी बच्चे और युवा रंगों से खेलते हैं। यह त्योहार लोगों में प्रेम और भाईचारे की भावना उत्पन्न करता है। इस दिन सभी लोग अपने पुराने गिले शिकवे भूल कर गले मिलते हैं और एक दुसरे को रंग गुलाल लगाते हैं। इस दौरान सभी मिलकर ढोलक, हारमोनियम की धुन पर नाचते – गाते हैं। होली के दिन पर सभी खासतौर पर घर में बने गुजिया, पापड़, दही-भल्ले, हलवा, पानी पूरी, आदि खाते और खिलाते हैं।

होली उत्सव के एक दिन पहले होलिका दहन किया जाता है। इसके पीछे एक लोकप्रिय पौराणिक कथा है:

हिरण्यकश्यप नाम का एक असुर राजा था जिसका पुत्र था प्रहलाद जो विष्णु भगवान् का भक्त था जबकि उनके पिता विष्णु के विरोधी थे। हिरण्यकश्यप अपने ही पुत्र को मारना चाहता था क्यूंकि प्रहलाद भगवान् विष्णु को मानता था। हिरण्यकश्यप चाहता था की उसका पुत्र उसे भगवान् कहे न की विष्णु को। हिरण्यकश्यप ने बार-बार प्रहलाद को विष्णु की भक्ति करने से रोका और जब प्रहलाद नहीं माने तो उन्होंने प्रहलाद को जान से मारने का प्रयास किया। हिरण्यकश्यप की बहन होलिका को भगवान से प्राप्त वरदान था की कोई भी उसे आग में जला नहीं सकता जब तक उसके पास भगवान् से प्राप्त चुन्नी होगी। प्रहलाद के पिता ने अपनी बहन होलिका से मदद मांगी और दोनों ने मिलकर प्रहलाद को मारने का एक षड़यंत्र रचा। जिसमे होलिका प्रहलाद को अपने गोद में लेकर जलती चिता में जाकर बैठ जाती है परन्तु भगवान् विष्णु की कृपा से प्रहलाद को कुछ हानि नहीं होती है और होलिका चिता में जलकर भष्म हो जाती हैं। तभी से हिन्दु धर्म के लोग बुराई के खिलाफ अच्छाई के विजय के रुप में हर साल होली का त्योहार बड़े धूमधाम से मनाते हैं। होली के इस उत्सव में सभी एक दूसरे को रंग और गुलाल लगाकर दिनभर होली का जश्न मनाते हैं।

होली एक ऐसा त्यौहार है जिस दिन लोग अपने बीच के सारे मतभेदों को भूल जाते हैं। सभी लोग एक दुसरे के ऊपर रंगों को फेकते हैं, माथे पर अबीर लगाते हैं और एक – दुसरे को गले लगाकर होली खेलते हैं।

Essay on Holi in Hindi 400 Words

होली भारत त्योहारों का देश है। यहाँ समय-समय पर अनेक त्योहार मनाए जाते हैं फिर भी कुछ त्योहार अधिक महत्त्वपूर्ण और उल्लासमय होते हैं। हमारे अनेक त्योहारों में सबसे रंगीन त्योहार है – होली। फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है।

होली मनाने के पीछे एक पौराणिक कथा है। हिरण्यकश्यप नाम का राजा स्वयं को भगवान कहकर लोगों से अपनी पूजा करवाता था। उसने विष्णु की तपस्या करके ऐसा वरदान पा लिया था कि वह न दिन में मरे, न रात में, न आदमी से मारा जाए, न जानवर से, न देवता से मारा जा सके न राक्षस से, न अंदर मारा जाए न बाहर। उसने सोचा जब मैं मर ही नहीं सकता तो मैं भगवान ही हो गया। वरदान के मद में वह लोगों को सताने लगा। उसका पुत्र प्रह्लाद भगवान विष्णु का परम भक्त था। वह सब जगह नारायण का वास मानता था। हिरण्यकश्यप चिढ़कर अपने ही बालक को सताने लगा। प्रहलाद को पहाड़ से गिराया गया, हाथी से कुचलवाया गया, परंतु प्रहलाद बच गया। अंत में प्रहलाद को हिरण्यकश्यप की बहन होलिका के साथ आग में बैठा दिया गया। उसकी बहन होलिका के पास एक वरदानी चादर थी जिसकी विशेषता थी कि जो कोई उसे ओढ़कर अग्नि में प्रवेश करेगा, उसे अग्नि जला नहीं सकेगी। आग भड़की तो विष्णु की कृपा से हवा का झोंका ऐसा आया कि होलिका की वरदानी चादर उसके ऊपर से उड़कर प्रहलाद के ऊपर पड़ गई। इस प्रकार प्रह्लाद का बाल भी बाँका न हुआ पर होलिका जलकर भस्म हो गई। लोग बहुत प्रसन्न हुए परंतु राजा क्रोध से आग बबूला हो गया। उसने प्रहलाद को एक खंभे पर लिपटने का आदेश दिया। भगवान को याद करके प्रहलाद खंभे से लिपट गया तभी चमत्कार हुआ। खंभा फटी और भगवान आधा शेर और आधा नर का (नृसिंह) रूप धारण करके प्रकट हुए। उन्होंने गरजकर हिरण्यकश्यप को पकड़ लिया और अपने घुटनों पर रखकर उसे नाखूनों से फाड़ डाला।

हिरण्यकश्यप के नाश और होलिका दहन के उल्लास में हर वर्ष होली जलाकर मनाई जाती है। दूसरे दिन सुबह सभी एक-दूसरे को गुलाल लगाते हैं और रंग डालते हैं। घर के लोग आने वालों को मिठाइयाँ खिलाते हैं। सभी खुशी-खुशी एक-दूसरे के गले मिलते हैं।

भगवान कृष्ण की जन्मभूमि वृंदावन की होली का रंग तो अनोखा ही होता है। हमें चाहिए कि मौजमस्ती तथा उल्लास से भरे इस त्योहार को स्वच्छ और सुंदर ढंग से मनाएँ।

Essay on Holi in Hindi 450 Words

भारत त्योहारों और पर्वो का देश है। यहाँ हर वर्ष अनेक त्योहार मनाए जाते हैं। रक्षा-बन्धन, दीपावली, दशहरा, होली आदि यहाँ के प्रसिद्ध त्योहार है। होली त्योहार सामाजिक एकता, मेलजोल और प्रेम भावना का प्रतीक है।

होली का त्योहार बसंत ऋतु में मनाया जाता है। बसन्त में जब प्रकृति के अंग-अंग में यौवन फूट पड़ता है, तो होली का त्योहार उसका श्रृंगार करने आता है। इस त्योहार को बसंत का यौवन भी कहा जाता है। इस दिन चारों ओर राग-रंग, उल्लास एवं उमंग का वातावरण होता है। मौसम का रंग तथा मुस्कान देखकर हमारा मन ही रंग-बिरंगा होने लगता है। इसलिए होली को रंगों का त्योहार भी कहते हैं। होली का त्योहार फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। इस कारण इसे ‘फाग’ भी कहते हैं।

हमारा देश कृषि प्रधान देश है। फरवरी और मार्च के महीने में गेहूँ और चने के दाने पक जाते हैं। अग्नि देवता को प्रसन्न करने के लिए आहुति दी जाती है। नए अनाज की बाले भूनकर अपने इष्ट मित्रों में बाँटी जाती हैं। होलिका दहन के बाद लोग परस्पर एक दूसरे के गले मिलते हैं। अगले दिन फाग खेला जाता है। चारों ओर रंग और गुलाल उड़ता दिखाई देता है। लोग एक दूसरे के चेहरे पर गुलाल लगाते हैं।

“ग़म हमारे दूर करके, भरती खुशियों से झोली।
वैरभाव दूर कर, आपस में गले मिलाती होली। ”

होली खेलने के बहाने लोग अपने सारे काम-काज और वैर-विरोध भूलकर आपस में गले मिलते हैं। इस अवसर पर लोगों के चेहरे एवं वस्त्र रंग-बिरंगे हो जाते हैं। चारों ओर मस्ती और उमंग का वातावरण छा जाता है। लोगों की टोलियाँ मस्ती से गाती, नाचती, ढोल-मंजीरे बजाती हुई गली-मोहल्ले में निकलती है। वृन्दावन की होली सबसे प्रसिद्ध है। यह भाईचारे का त्योहार है। दुश्मन भी इस दिन अपनी दुश्मनी को भूलकर एक-दूसरे के गले मिलते हैं। | यह मिलन का त्योहार है। इसे समता, प्रेम और भाईचारे से मनाना चाहिए। तभी हम इसका सच्चा आनन्द उठा सकते हैं।

पौराणिक कथा

इस त्योहार के साथ एक पौराणिक कथा भी जुड़ी हुई है। प्राचीनकाल में हरिण्यकश्पयु नामक एक निर्दयी और नास्तिक राजा था। वह अपने आप को भगवान मानता था। वह चाहता था कि प्रजा उसे परमात्मा से भी बढ़कर सम्मान करे तथा उसकी पूजा करे। लेकिन उसका पुत्र प्रहलाद विष्णु भक्त था। उसने अपने पिता का विरोध किया। हरिण्कश्पयु ने क्रोध में आकर अपने बेटे का वध करवाना चाहा। तब उसने अपनी बहन होलिका को बुलवाया, जिसको कि अग्नि देवता ने एक ओढणी के रूप में आग में न जलने का वरदान दिया था | हरिण्कश्पय के आदेश पर वह प्रहलाद को लेकर जलती आग में बैठ गई। लेकिन भगवान की कृपा से ऐसी आँधी चली कि वह ओढनी उड़कर प्रहलाद पर आ गई जिससे वह बच गया। होलिका जलकर राख हो गई। तब से यह पर्व प्रति वर्ष फाल्गुन मास की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। रात्रि के समय होलिका-दहन किया जाता है। लोग इसकी परिक्रमा करते हैं।

Essay on Holi in Hindi 500 Words

In this 500 words essay you will find Holi information in Hindi and can get 10 lines on Holi festival in Hindi. Holi festival in hindi 500 words and now you can say happy Holi in Hindi language.

“मस्ती का त्योहार है होली,
बोलो सबसे मीठी बोली।
मिलकर खेलेंगे हम जोली,
आपस का प्यार है होली।

भारत त्यौहारों का देश है। हम पूरे वर्ष के दौरान कई त्यौहार मनाते हैं। होली हिंदुओं का एक महत्वपूर्ण त्योहार है और यह सर्दियों के मौसम के अंत में और वसंत की शुरुआत में मनाया जाता है। यह बहुत खुशी और उत्साह का एक रंगीन त्योहार है, जिसे रंगों का त्योहार भी कहा जाता है। होली का पर्व प्रतिवर्ष फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है | इस पर्व का विशेष धार्मिक, पौराणिक व सामाजिक महत्व है। होली को बुराई पर सच्चाई की विजय के रूप में मनाया जाता है इस त्योहार को मनाने के पीछे एक पौराणिक कथा प्रसिद्ध है। प्राचीनकाल में हिरण्यकश्यप नामक असूर राजा ने ब्रह्मा के वरदान तथा अपनी शक्ति से मृत्यु पर विजय प्राप्त कर ली थी। राजा हिरण्यकश्यप ने ईश्वर पर विश्वास नहीं किया अपितु अपनी शक्तियों में विश्वास किया। अभिमानवश वह स्वयं को अजेय समझने लगा। प्रहलाद भगवान का भक्त था जबकि उनके पिता हिरण्यकश्यप विष्णु के विरोधी थे| उन्होंने प्रहलाद को विष्णु भक्ति करने से रोका जब वह नहीं माने तो उन्होंने प्रहलाद को मारने का प्रयास किया।

उनकी बहन होलिका को एक ईश्वर-प्रतिभाशाली वरदान था कि कोई उसे आग में जला नहीं पाएगा। प्रहलाद के पिता ने आखिर अपनी बहन होलिका से मदद मांगी। होलिका अपने भाई की सहायता करने के लिए तैयार हो गई और प्रह्लाद को लेकर चिता में जा बैठी परन्तु भगवान विष्णु की कृपा से प्रह्लाद सुरक्षित रहे और होलिका जल कर भस्म हो गई। तभी से होलिका दहन परंपरागत रूप से हर फाल्गुन मास की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। सभी रात में एक जगह इकठ्ठा होकर लकड़ी और गोबर के ढेर को जलाकर होलिका दहन के रिवाज को संपन्न करते है।

होलिका दहन की अगली सुबह, लोग रंग-बिरंगी होली को एक साथ मनाने के लिये एक जगह इकठ्ठा हो जाते है। इस दिन लोग एक-दूसरे के घर जाकर रंग गुलाल लगाते हैं। साथ ही मजेदार पकवानों का आनंद लेते। होली एक ऐसा त्यौहार है जिस दिन लोग अपने बीच के सारे मतभेदों को भूल जाते हैं, टूटे रिश्तों को बनाते हैं और फिर खुश दुनिया में वापस आ जाते हैं। उन पर रंगों को फेंक कर, माथे पर अबीर लगाने और एक-दूसरे को गले लगाने के दवारा होली खेलते हैं।

लोग होली के गाने गाकर और अपने परिवार, दोस्तों और पड़ोसियों के साथ मिलकर संगीत पर नाचकर सड़क पर रंग खेलते हैं। दोपहर के बाद, लोग नमस्कार करने के लिए एक-दूसरे के घर जाते हैं। जगह और संस्कृति के अनुसार होली का उत्सव भिन्न होता है। कुछ जगहों पर, सफेद रंग की पोशाक में होली खेलने की एक परंपरा है और शाम को ऍक-दूसरे को अपना प्यार, स्नेह और भाईचारे दिखाने के लिए गले लगाते हैं।

कुछ लोग सच्ची भावना से त्योहार नहीं मनाते हैं, वे शराब पीते हैं और अन्य लोगों के चेहरों पर कीचड़ का इस्तेमाल करते हैं। इसे टाला जाना चाहिए। हमें स्वच्छ होली खेलना चाहिए। हमें लोगों को इन गतिविधियों को छोड़ने और त्योहार को सही भावना से मनाने के लिए प्रेरित करना चाहिए क्योंकि यह बहुत सारे रंग, मित्रों और खुशी का उत्सव है।

Essay on Holi in Hindi 600 Words

होली भारतीय समाज का एक अति विशिष्ट और महत्वपूर्ण त्योहार है। इस त्योहार को भारतीय समाज अत्यंत प्राचीन काल से नाना रूपों, रंगों और नामों से मनाता आता रहा है, जिसे आज हम रंगों के त्योहार होली के नाम-रूप में जानते-पहचानते और मनाते हैं। कभी इसे मदनोत्सव कहकर पुकारा जाता था। पहले, इस दिन सभी लोग एक-दूसरे पर पुष्पों और उनके बने मधुर, सुकोमल रंगों के इत्रों आदि को डालते थे। बाद में इनका स्थान समुचित रंगों ने ले लिया।

भारतीय समाज एक धर्म-प्राण और तीज-त्योहारों वाला देश रहा है। आज के भौतिकवादी समय में भी भारतवर्ष ने अपनी इस महान् परम्परा को किंचित मात्र भी नहीं छोड़ा है। आज भी समग्र भारतीय समाज इस पर्व के दिन एक अजब उत्साह और उल्लास से भर उठता है। वस्तुत: जैसा कि प्रायः विद्वानों द्वारा कहा भी जाता है, भारतीय पर्व, भारतीय जनमानस की आनंदोत्सव के प्रतीक और उसकी उल्लासपूर्ण अभिव्यक्ति है।

हम सभी इस बात से पूर्णत: परिचित हैं कि साहित्य अपने सारतत्व के लिए मूलतः मानव समाज पर ही न केवल निर्भर होता है अपितु अगर यह कहा जाए कि वो पूर्णत: उसकी आनन्द और विवाद पर ही अवलम्बित होता है, तो किसी प्रकार की असंगति नहीं होगी। साहित्य में जब मानव-जीवन की अपनी बाह्य एवं आन्तरिक रूप-स्वरूप व्यक्त अभिव्यक्त होता है, तब इसका संकेत वस्तुत: यही होता है कि मानवीय जीवन जिन-जिन आयामों, रूपों और भिन्न-भिन्न पक्षों से आप्लावित हुआ करता है साहित्य में वो सभी प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से चित्रित होते ही रहते हैं। जिस प्रकार साहित्य में मानव जीवन की कठोर वास्तविकताएं चित्रित एवं अभिव्यंजित होती है ठीक उसी प्रकार मानवीय जीवन के अह्लादपरक क्षण भी साहित्य में चित्रित होते हैं। भारतीय मानव का एक ऐसा ही आह्वापरक क्षण है होली का पवित्र त्योहार। हिन्दी साहित्य में इस उल्लासपूर्ण त्योहार का व्यापक एवं अत्यंत समृद्ध चित्रण हुआ है। यहाँ तक कि भारतीय संस्कृत-साहित्य की भी इस संदर्भ में किसी से पीछे नहीं कहा जा सकता। फिर भी हिन्दी कविता का स्थान इस संदर्भ में अत्यधिक महत्वपूर्ण एवं उल्लेखनीय रहा है।

होली का चित्रण साहित्य में वैसे तो प्रत्यक्ष रूप से अत्यंत विपुल मात्रा में हुआ है जिसमें प्रमाणों से हिन्दी साहित्य का समग्र इतिहास भरा पड़ा है। किन्तु इसका महत्व तब और भी बढ़ जाता है जब इस होली के त्योहार का उल्लास साहित्य में अप्रत्यक्ष रूप से चित्रित होता है। यथाः

चितवत जारी ओर चख चकि चौंध कौंधे
भनि प्रणमेस मातु किरन खरी सी है
छवि प्रतिबिम्ब छुट्यों छिति है छपाकार ते
छाजत छबीली राजै कनक छरी सी है
दीनौ हर लुरक गुलाब को प्रसून ग्रास
झुक झुक झुमि झुमि झाँकत परी सी है।
आनन अमल अरविन्द ते अमल अति।
अद्भुत अमूल आया उफनि परी सी है।

इसी प्रकार से भिखारीदास ने भी होली का भव्य चित्रण अपने काव्य में किया है उनकी एक अत्यंत प्रसिद्ध काव्यांश इस प्रकार से है।

कढ़ि के निसंक पैठि जाति झुंड झुंडन में,
लोगन को देखि दास अनंद पगति है।
दौरि दौरि जहाँ तही लाज करि डारति है।
अंक लगि कंठ लगिबे को उजगारी है।
चमक झमक बारी, ठमक जमक बारी,
रमक नमक बारी जाहिर जगति है।
राम असि रखरे की रन में नरन में
निलाज बनिता सी होगी खेलन लगति है।

इसी प्रकार की एक कविता पद्माकर जी ने भी लिखी है। यथाः

फागु की भीर, अभीरिन में गहि गोविंद ले गई भीतर गोरी।
भाई करी मन की पदमाकर ऊपर भाई कबीर की झोरी।।
छीख पितंबर कम्मर ते सुबिदा पई मीडि कपोलन रोरी
नैन बचाय कही मुसनम बला फिर आइयो खेलन होरी॥

अत: हमारे कहने का अभिप्राय जो था वह इन उदाहरणों से पूर्णत: सिद्ध हो जाता है कि जिस प्रकार रंगों का यह त्योहार हम भारतीयों में व्यापकता में बसा हुआ है उसी प्रकार हमारे साहित्य में भी।

More Essay in Hindi

Essay on Festivals of India in Hindi

Essay on Religion and Politics in Hindi

Eid essay in Hindi

Essay on Diwali in Hindi

Essay on Patriotism in Hindi

Thank you for reading. Don’t forget to give us your feedback.

अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *