Parishram Ka Mahatva Essay in Hindi परिश्रम का महत्व पर निबंध

Hello, guys today we are going to write Parishram Ka Mahatva essay in Hindi. परिश्रम का महत्व पर निबंध। As many students know the importance of handwork in Hindi. But they find difficulties in writing about Parishram. Parishram ka mahatva essay in Hindi can be asked in two ways parishram hi safalta ki kunji hai or Hard work is the key to success in Hindi which means one and the same thing.

hindiinhindi parishram ka mahatva essay in hindi

Parishram Ka Mahatva Essay in Hindi 300 Words

परिश्रम का महत्व पर निबंध

मनुष्य के जीवन में परिश्रम का बहुत महत्व होता है। परिश्रम मानव जीवन का वह हथियार है जिसके बल पर वह भारी से भारी संकटों पर भी जीत हासिल कर सकता है। मनुष्य परिश्रम करके अपने जीवन की हर समस्या से छुटकारा पा सकता है। विश्व में कोई भी कार्य बिना परिश्रम के सफल या संपन्न नहीं हो सकता। इसलिए ऐसा कहा गया है कि परिश्रम ही सफलता की कुंजी है। वह व्यक्ति जो परिश्रम से दूर रहता है वह सदैव दुःखी और दूसरों पर निर्भर रहने वाला होता है।

जीवन की दौड़ में परिश्रम करनेवाला हमेशा विजयी होता है लेकिन आलसी लोगों को हमेशा हर जगह पर हार का मुँह देखना पड़ता है। ऐसा कोई भी कार्य नहीं है जो परिश्रम से सफल न हो। इसलिए हमें परिश्रमशील और कर्मठ बनना चाहिए। परिश्रम करके हम अपने भाग्य को भी बदल सकते हैं। श्रम से ही उन्नति और विकास का मार्ग खुल सकता है।

जीवन में कुछ लोग केवल अपने भाग्य पर निर्भर होते हैं। ऐसे लोग परिश्रम की जगह भाग्य को बहुत अधिक महत्व देते हैं। वे लोग यह समझते हैं कि जो हमारे भाग्य में होगा वह हमें अवश्य मिलेगा। लेकिन उन्हें यह नहीं पता होता है कि भाग्य के भरोसे रहना जीवन में आलस्य को जन्म देता है और आलस्य मनुष्य के जीवन लिए एक अभिशाप है, जो उन्हें परिश्रम करने से हमेशा रोकता रहता है। इसलिए हमें भाग्य के भरोसे न रहकर कठिन परिश्रम करके जीवन में सफलता रास्ता चुनना चाहिए। परिश्रम से कोई भी व्यक्ति अपने भाग्य को बदल सकता है।

जो व्यक्ति परिश्रमी होते हैं वे चरित्रवान, ईमानदार और स्वावलम्बी होते हैं। मजदूर भी परिश्रम से ही संसार के लिए उपयोगी वस्तुओं का निर्माण करता है। वह संसार के लिए सड़क, भवन, मशीन और बाँध (डैम) इत्यादि का निर्माण करता है। अगर हम अपने जीवन, अपने देश और राष्ट्र की उन्नति देखना चाहते हैं तो हम सभी को भाग्य पर निर्भर रहना छोडकर परिश्रमी बनना होगा। सच्ची लगन और निरंतर परिश्रम से सफलता हमें अवश्य मिलती है। निरंतर परिश्रम करने वाला व्यक्ति कोई भी क्षेत्र में आसानी से सफलता पा सकता है। जीवन में सफलता पाने के लिए लगन और कठिन परिश्रम अति आवश्यक है।

परिश्रम का महत्व पर निबंध 800 Words

जीवन में परिश्रम ही सब कुछ है। बिना परिश्रम जीवन व्यर्थ और नि:स्सार है। संसार में जो कुछ स्थाई, श्रेष्ठ, महान् और हितकारी है, वह हमारे अथक परिश्रम का ही फल है। हमारी इतनी समृद्ध संस्कृति, सभ्यता और वैज्ञानिक विकास सभी कुछ इस परिश्रम की ही देन है। हमारे चाँद पर पहुँचने, एवरेस्ट पर विजय पाने, संचार क्रांति आदि सभी के पीछे परिश्रम खड़ा दिखाई देता है। पुरुषार्थ को ही लक्ष्मी और सरस्वती जैसी देवियाँ अपनी वरमाला पहनाती हैं। सफलता उद्यमी और कर्मवीर का ही वरण करती हैं। कर्मयोग के द्वारा ही सिद्धियाँ, मोक्ष और स्वर्ग प्राप्त किये जा सकते हैं। कर्महीन व्यक्ति नपुसंक होते हैं। वे पृथ्वी पर भार होते हैं और मानवता के लिए अभिशाप भी।

श्रम ही सफलता और सुख की सीढ़ी है। यही वह कुंजी है जिससे समृद्धि, श्रेय, यश और महानता के खजाने खोले जा सकते हैं। इतिहास और हमारा सारा जीवन ऐसे उदाहरणों से भरा पड़ा है। इब्राहम लिंकन, महाकवि कालिदास, तुलसीदास, लालबहादुर शास्त्री, नेपोलियन बोनापार्ट, महात्मा गाँधी; मदर टेरेसा आदि के उदाहरण हम ले सकते हैं। इन सभी व्यक्तियों ने अपने खून-पसीने और श्रम से ही महानता प्राप्त की।

यह सभी श्रेष्ठता के उच्चतम शिखर तक पहुंचे इतिहास रचा और अमर हो गये। लिंकन का जन्म एक अत्यन्त निर्धन किसान परिवार में हुआ था। उसका परिवार एक लकड़ी की झोंपड़ी में रहता था। जब वह नौ वर्ष का था तभी उसकी माता का देहांत हो गया। उसे खेत और घर पर कठोर परिश्रम करना पड़ता था और वह शिक्षा प्राप्त करने के लिए स्कूल नहीं जा सकता था। उसने डाकिये के पद पर काम किया और वहां जो समाचार-पत्र आदि आते थे उन्हें उनके पतों पर पहुंचाने से पहले लिंकन उन्हें जल्दी से स्वयं पढ़ लेता था। उसने लोगों से पुस्तकें पढ़ी और इस तरह विद्या का अध्ययन किया। अपनी गहरी लग्न, अथक परिश्रम और पुरुषार्थ से लिंकन निरन्तर आगे ही आगे बढ़ता रहा और अपनी मेहनत के बलबूते अमेरिका जैसे शक्तिशाली देश का महान् राष्ट्रपति बना।

हमारी सभ्यता, संस्कृति, आर्थिक और वैज्ञानिक समृद्धि के मूल आधार ये ही स्त्री-पुरुष हैं। इन्हीं कर्मवीरों के हम सचमुच ऋणी हैं। उदाहरण के लिए हम कालिदास के जीवन को ले सकते हैं। शुरु-शुरु में कालिदास बिल्कुल मूर्ख था। वह इतना मूर्ख था कि जिस डाली पर बैठा हुआ था, उसी को काट रहा था। कुछ लोगों ने चालाकी से उसका विवाह प्रतिभा सम्पन्न राजकुमारी विद्योत्तमा से करवा दिया। जब विद्योत्तमा को सच्चाई का पता चला तो उसने दु:ख से अपना सिर पीट लिया और कालिदास को घर से निकाल दिया।

इस अपमान, निरादर और ताड़ना से कालिदास तड़प उठा, उसकी नींद खुल गई। वह काशी चला गया और वहां संस्कृति का अध्ययन किया, काव्य-सृजन सीखा और प्रकांड पंडित होकर अवंती लौटा। उसकी प्रखर प्रतिभा को देखकर विद्योतमा और दूसरे सभी दरबारी लोग आश्चर्यचकित रह गये। कालिदास ने अपने अथक और निरन्तर परिश्रम से वह कर दिखाया जो असंभव था। महामूर्ख से महापंडित की यह यात्रा परिश्रम का एक अद्भुत वस्तुपाठ है। हमें इससे शिक्षा लेनी चाहिये। इसका अनुसरण करना चाहिये तथा कर्मयोग को अपनाना चाहिये।

परिश्रम के अभाव में प्रतिभा का भी कोई महत्त्व नहीं। प्रतिभाशाली व्यक्ति को भी कड़े परिश्रम और पुरुषार्थ की आवश्यकता होती है। सफलता में यदि 10 प्रतिशत भाग प्रतिभा का मान लिया जाए तो 90 प्रतिशत भाग परिश्रम के ही खाते में जाता है। सच्चाई तो यह है कि श्रम का कोई विकल्प नहीं। श्रम का ही दूसरा नाम श्रेष्ठता, सफलता और महानता है। परिश्रम की पहुंच से बाहर कुछ भी नहीं, न स्वर्ग, न मोक्ष, न सफलता, न श्रेष्ठता और न ही महानता। हीरा अमूल्य होता है। यह प्रकृति की एक अनुपम देन है। राजा-महाराजाओं के ताज इससे सुशोभित होते हैं। विश्व की सुन्दरतम नारियों का श्रृंगार बनता है। देवताओं का इससे अलंकरण किया जाता है। परन्तु हीरा मूलतः एक अनगढ़ पत्थर का टुकड़ा ही होता है। कारीगर अपने कठोर परिश्रम से कांट-छांट कर उसे हीरे का रूप देता है। उसे अपने श्रम और पसीने से चमकाता है। इस कठोर परिश्रम के पश्चात् ही हीरे का वास्तविक मूल्य और उपयोगिता प्रकट होती है।

मनुष्य अपनी नियति और भाग्य का स्वयं निर्माता है। नियति कभी पूर्वनिर्धारित या निश्चित नहीं होती। ग्रह-नक्षत्र हमारे भाग्यविधाता नहीं होते। हमारे पूर्व जन्मों के कर्म फल ही हमें भाग्य के रूप में दिखाई देते हैं। हम स्वयं ही अपने मित्र या शत्रु हैं। हमारे कर्म ही हमारी नियति निश्चित करते हैं। यह सारा संसार और इसके कार्य व्यापार कर्म प्रधान हैं। कर्मवीर अपने भाग्य का स्वयं निर्माण करते हैं।

मनुष्य का कर्म पर ही अधिकार है, उसके फल पर नहीं। मनुष्य स्वभाव से ही कर्मशील है। हमें कठोर परिश्रम करना चाहिये। काम से जी चुराना हमें शोभा नहीं देता। आलसी विद्यार्थी असफल रहते हैं और जीवन में कभी कुछ अच्छा नहीं कर पाते। इसके विपरीत परिश्रमी छात्र सफल होते हैं। वे पुरस्कार प्राप्त करते हैं और अपने विद्यालय का नाम रोशन करते हैं और जीवन में ऊँचे तथा महत्त्वपूर्ण पद प्राप्त करते हैं। कर्महीन और आलसी व्यक्ति ही भाग्य की दुहाई देते हैं। वे वस्तुओं और स्थितियों में दोष निकालते हैं और अपने दुर्भाग्य का रोना रोते हैं।

More Essay in Hindi

Essay on Hockey in Hindi

Don’t forget to write your review.

अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे।

Share this :

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *